मधेपुरा : जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष हत्याकांड का खुलासा, पुरानी दुश्मनी में हुई थी हत्या, दो की गिरफ़्तारी

728x90
Spread the news

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : जिले के गम्हरिया जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष अशोक कुमार हत्याकांड का मधेपुरा पुलिस ने खुलासा कर इस हत्याकांड में शामिल दो अपराधी को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

हत्या का मुख्य कारण पुरानी रंजिश बताया गया है, जिसके कारण बदला लेने के लिए इस हयाकांड को अंजाम दिया था। इस हत्याकांड में कुल 12 अपराधकर्मी शामिल थे, जिसमें से एक प्रहलाद कुमार पिता संजय कुमार और दूसरा सूरज कुमार पिता सुरेश दास की गिरफ़्तारी अमल में आई है, बाँकी 10 अभियुक्तों की पहचान कर ली गई है एवं उनकी गिरफ़्तारी के लिए पुलिस की छापामारी जारी है।

देखें वीडियो :

रविवार को मधेपुरा सदर थाना में आयोजित प्रेसवार्ता में पुलिस अधीक्षक संजय कुमार ने मामले का खुलासा कर बताया कि जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष अशोक कुमार हत्याकांड के पीछे शराब माफिया का हाथ होने की बात सामने नहीं आई है, बल्कि पुरानी रंजिश के कारण उनकी की हत्या की गई थी।  

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभी तक के अनुसंधान से इस कांड में 12 अपराधी को संलिप्त होने की बात प्रकाश में आई है। जिसमें प्रमुख रूप से घटना कराने में गम्हरिया थाना निवासी हिटलर कुमार, पिता-शशि शेखर, और राम कुमार पासवान पिता-महेंद्र पासवान शामिल है। वहीं इस हत्याकांड में लाइनर की भूमिका गम्हरिया थाना के जोगबनी गॉंव निवासी प्रहलाद कुमार पिता- संजय कुमार, के द्वारा निभाई गई है। साक्ष्य एवं प्रहलाद के कबूलनामे के अनुसार घटना में शामिल एक मोटा, लड़के की पहचान सूरज कुमार पिता- सुरेश दास, गौरीपुर वार्ड 2, थाना         सिंहेश्वर जिला मधेपुरा, के रूप में की गई है।

अनुसंधान के क्रम में यह बात प्रकाश में आई है कि अपराधी प्रहलाद कुमार, राम कुमार पासवान एवं हिटलर कुमार का कई कारणों से मृतक अशोक यादव से दुश्मनी थी, इस कारण इन लोगों के द्वारा इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। 

मालूम हो कि गम्हरिया थान अंतर्गत ग्राम जोगबानी में 11.8.20 को संध्या करीब 8 बजे जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष अशोक कुमार मेला देख कर अपने घर लौट रहे थे, इसी क्रम में शंकर चौधरी के पान की दुकान के निकट अज्ञात अपराधियों के द्वारा गोली मारकर उनकी हत्या कर दे गई थी। इसस मामले में गम्हरिया थाना कांड सांख्य 135/20 धारा 302/34 भा.द.वि.  एवं 27 आर्म्स एक्ट के विरुद्ध मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू की गई थी।

इस हत्याकांड के उद्भेदन एवं अभियुक्तों की गिरफ़्तारी के लिए अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मधेपुरा वसी अहमद के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया, जिसमें पुलिस निरीक्षक, प्रशांत कुमार, थानाध्यक्ष गम्हरिया, पु.अ.नि. सुबोध कुमार गुप्ता, पु.अ.नि. राजेन्द्र प्रसाद, एवं तकनीक शाखा से अमर कुमार, संजय कुमार सानु, धीरेन्द्र कुमार, कमांडो हेड विपिन कुमार, प्रभात कुमार, विकास कुमार एवं गोपाल कुमार, चुनमून कुमार, राजेश कुमार, उदय शंकर सहित अन्य पुलिस बल शामिल थे।

वैज्ञानिक अनुसंधान के क्रम में यह बात प्रकाश में आई है कि प्रहलाद कुमार के द्वारा अपने मोबाइल संख्या 9798578491 के द्वारा मोबाइल न0- 7321890110 पर घटना के दिन 6.19 बजे मैसेज कर घटनास्थल के पीछे वाली फील्ड पर बुलाया गया।

बहरहाल पुलिस ने त्वरित कारवाई कर फिलहाल दो अपराधी को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है लेकिन अभी भी इस हत्याकांड के प्रमुख अभियुक्त हिटलर कुमार और राम कुमार पासवान सहित अन्य अपराधी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है ।

घटना का मुख्य कारण : अनुसंधान के क्रम में यह बात प्रकाश में आई है कि वादी  किशोर भारती पिता स्व0 जवाहर यादव, साकिन-जोगबानी, थाना गम्हरिया, जिला मधेपुरा के द्वारा रौशन कुमार उर्फ हिटलर कुमार एवं अन्य पर हीरो होंडा मोटरसाइकिल लेने एवं मारपीट करने का आरोप लागकर गम्हरिया थाना कांड संख्या 171/19 दर्ज कराया गया था। जिसमें मृतक अशोक यादव के द्वारा हिटलर कुमार को डांटा-फटकार गया था, जिसके बाद हिटलर के द्वारा मोटरसाकिल फेंक दिया गया तथा हिटलर कुमार के द्वारा गॉंव  में बोला जाता था कि अशोक यादव से इसका बदला कभी ना कभी ले लेंगे ।

वहीं राम कुमार पासवान के द्वारा जोगबानी चौक पर मेला के सरकारी जमीन में टाटी-टीन की दुकान बनाया गया था जिसको एक वर्ष पहले मृतक अशोक यादव के द्वारा अन्य लोगों के साथ मिलकर हटवा दिया गया था, जिसके कारण राम कुमार पासवान के द्वारा मृतक से बदला लेने की बात लोगों के सामने बोला जाता था।  

दिनाक 10.8.20 को रात्री में राम कुमार एवं इसके साथियों के द्वारा संजय यादव एवं टुन्ना यादव के स्टाफ का पैसा छिन लिया गया था, जिसके कारण संजय यादव द्वारा माइक पर गाली-गलोज किया गया था, जिसके साथ मृतक अशोक यादव भी थे। जिसके कारण राम कुमार पासवान के द्वारा मृतक अशोक यादव को जान से मारने की बात की गई थी, हिटलर यादव, राम कुमार पासवान के द्वारा बोला जाता था कि अशोक यादव ही पुलिस से मिलकर बार-बार इन लोगों के यहाँ रेड करवा थे। इसी कारण से हिटलर यादव एवं राम कुमार पासवान के द्वारा साजिश कर अपने अन्य साथी अपराधकर्मी से यह घटना करवाया गया।

हत्याकांड में शामिल अपराधियों का आपराधिक इतिहास :

  • हिटलर कुमार पिता शशि शेखर, साकिन- जोगबानी, थान गम्हरिया के विरुद्ध गमहरिया थाना कांड संख्या 171/9 धारा-379,341,323,504,506 भा.द.वि.

  • राम कुमार पासवान पिता महेंद्र पासवान साकिन जोगबानी-थाना गमहरिया- गमहरिया थाना कांड संख्या 175/18, दिनांक- 1.7.18. धारा-341/323/354/380/506/34 भा.द.वि., गमहरिया थाना कांड संख्या 191/18 दिनांक 27.11.18, धारा – 379/506/34 भा.द.वि., सोनवर्षा राज थाना कांड संख्या-123/12 दिनांक 10.9.12 धारा- 397/471 भा.द.वि., 25 (1-बी ए ) 26 /35 आर्म्स एक्ट, सिंहेश्वर थाना कांड संख्या- 67/19 दिनांक 18.3.19 धारा 323/324/341/379/307/504/506/34 भा.द.वि. एवं 27 आर्म एक्ट

  • सूरज कुमार पिता सुरेश दास, साकिन- वार्ड -2, गौरीपुर थाना सिंहेश्वर – : सिंहेश्वर थाना कांड संख्या-67/19 दिनांक 18.3.19 धारा – 323/324/342/379/307/504/506/34 भा.द.वि. एवं 27 आर्म्स एक्ट


Spread the news