मधेपुरा : अपनी मांगों के समर्थन में कार्यपालक सहायकों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार :  बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ बिहार के आह्वान पर जिला ईकाई द्वारा बुधवार से चरणबद्ध तरीके से आंदोलन शुरू किया गया। बुधवार को जिले के सभी कार्यालयों में कार्यरत कार्यपालक सहायकों ने काला बिल्ला लगाकर सांकेतिक विरोध करते हुये कार्यालयी कार्य किया। कार्यपालक सहायकों द्वारा काला बिल्ला लगाकर 10 जुलाई तक सांकेतिक विरोध किया जायेगा, जिसके बाद 11 से 15 जुलाई तक याद है ना के तहत सरकार के द्वारा पूर्व में घोषित वादो को सोशल मीडिया एवं कार्यस्थल पर बैनर पोस्टर के माध्यम से पुनः स्मारित किया जाना। वही 16 जुलाई को कैंडल मार्च एवं 17 जुलाई को भिक्षाटन का कार्यक्रम किया जायेगा।

 बेएसा जिलाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी, सामान्य प्रशासन विभाग, बिहार के द्वारा विज्ञापित विज्ञापन के निर्देशों के आलोक में जिला स्तर पर जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में गठित चयन समिति के द्वारा लिखित परीक्षा एवं कंप्यूटर दक्षता परीक्षा पास अभ्यर्थियों के बनाये गये पैनल से आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुये स्वीकृत पद पर राज्य सरकार के महत्वाकांक्षी योजनायें लोक सेवाओं का अधिकार अधिनियम 2011, लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम, पंचायत सशक्तिकरण योजना के साथ-साथ विभिन्न विभागों के आदेश के आलोक में ग्राम पंचायत, प्रखंड स्तरीय कार्यालय, जिला मुख्यालय तक विभिन्न विभागों द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों एवं विभाग संबंधित कार्यों के लिये कार्यपालक सहायक का नियोजन कंप्यूटर, प्रिंटर एवं अन्य संबंधित उपस्कर सहित सरकारी कार्यालयों में नियोजित किया गया है।
सरकारी योजनाओं के सफल एवं पारदर्शी क्रियान्वयन में योगदान दे रहे हैं कार्यपालक सहायक : जिलाध्यक्ष ने कहा कि कार्यपालक सहायकों द्वारा कंप्यूटर एवं आईटी संबंधी कार्यों से लेकर कार्यालय स्तर तक के सभी कार्यों को वर्ष 2010-2011 से ही सफलता पूर्वक किया जा रहा है तथा सरकारी योजनाओं के सफल एवं पारदर्शी क्रियान्वयन में अपना योगदान दे रहे हैं, जिसके फलस्वरूप बिहार सरकार को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई बार सम्मानित भी किया गया है। उन्होंने कहा कि कार्यपालक सहायकों का कार्य स्थाई प्रकृति का है, लेकिन आज भी हमलोग अल्प मानदेय में कार्य कर रहे हैं, जिसके कारण अपने एवं पारिवारिक दायित्वों के निर्वहन में काफी कठिनाई होती है। संविदा कर्मियों के नियमितीकरण के लिये उच्च स्तरीय समिति के अनुशंसा को लागू करने के लिये सामान्य प्रशासन विभाग बिहार पटना द्वारा संकल्प भी जारी किया गया था, लेकिन बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी बिहार पटना द्वारा उसका अनुपालन नहीं किया जा रहा है, जिससे सभी कार्यपालक सहायकों में असंतोष है।

 संकल्प पत्र जारी होने के 21 माह बीत जाने के बाद भी सभी अनुशंसाओ के अनुपालन नहीं किये जाने से सभी कार्यपालक सहायकों के मनोबल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने से कार्य क्षमता का ह्रास होता है।
महत्वाकांक्षी योजनाओं में से किये जा रहे योगदान पर विचार करते हुये स्थाई की जाय सेवा: संघ के मांगों से अवगत कराते हुये जिलाध्यक्ष ने बताया कि पूर्व में किये गये आंदोलन के क्रम में की गई कार्रवाई वापस लेते हुये उस अवधि में कटौती किये गये मानदेय का भुगतान किया जाए, आंदोलन के क्रम में संघ द्वारा शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन के क्रम में गर्दनीबाग थाना पटना में दर्ज प्राथमिक को वापस लिया जाय, कार्यपालक सहायकों की कार्य प्रकृति एवं सरकार के महत्वाकांक्षी योजनाओं में से किये जा रहे योगदान पर सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुये सेवा स्थाई की जाय, सेवा स्थायीकरण होने तक उच्च स्तरीय समिति के अनुशंसाओं को लागू करने के लिये जारी संकल्प के निहित सभी निर्देशों का अनुपालन कराया जाय, स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत अस्पतालों में कार्यरत कार्यपालक सहायको, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग अंतर्गत कार्यरत कार्यपालक सहायकों का मानदेय बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी बिहार द्वारा निर्धारित दर से भुगतान किया जाय, साथ ही अन्य विभागों में भी निर्धारित दर से ही मानदेय का भुगतान कराया जाय।

सभी नव नियोजित कार्यपालक सहायक जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में गठित चयन समिति द्वारा आयोजित जांच परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात ही नियोजित हुये हैं, जो अपने नियंत्री पदाधिकारी द्वारा आवंटित कार्य सफलतापूर्वक संपादित कर रहे हैं, इन्हें बेल्ट्रोन द्वारा आयोजित दक्षता परीक्षा पास करने की अनिवार्यता से मुक्त कराया जाय।
जिले के सभी कार्यपालक सहायकों ने जताया विरोध : बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ बिहार के आह्वान पर जिला ईकाई द्वारा किये जा रहे सांकेतिक विरोध में जिले के सभी कार्यालयों कार्यपालक सहायक विरोध प्रदर्शन में मौजूद रहे।  इस दौरान जिला मुख्यालय में संघ के पूर्व जिला अध्यक्ष प्रणव प्रकाश, सचिव सौरव, उपाध्यक्ष श्याम, मनीष मणि, परवेज़, अमरदीप, प्रकाश, अमन, सुखसैन, राजू, कैलाश, ओम प्रकाश, टोनी, शिवानी, आशा, प्रेरणा भारती, निधि, बुलबुल, लक्ष्मी, स्मृति, स्वीकृति, काजल, बेबी, अनिल, राहुल, विनोद, रवि प्रकाश, सुमित, राजीव, रोशन, संतोष, चंदन, विकास, राजाउल, मिथिलेश, सावंत, राखी, खुशबू, प्रेम, भूषण, अलीम, सन्नी, जूही, सोनम, बबिता, कृति, रंजीत, सैनु, निकिता, नीता, निखिलेश, अंजना, आशीष, अखिलेश, पल्लवी, आशा, सिंहेश्वर प्रखंड कार्यालय में प्रखंड प्रभारी किशलय कुमार, सहायक प्रखंड प्रभारी संजय कुमार मल्लिक, मनीष कुमार, चंद्र भूषण कुमार, आशीष कुमार, हिमांशु अकेला, पंचम कुमार, अबुल कलाम, चंदना कुमारी, वंदना कुमारी, श्रुति कुमारी, आकांक्षा प्रिया, पुष्पा कुमारी, रिभा कुमारी, रिंकू कुमारी, जय लक्ष्मी पाल समेत अन्य कार्यपालक सहायक उपस्थित थे।


Spread the news
advertise