कार्यपालक सहायकों ने काला बिल्ला लगाकर अपनी मांग के समर्थन में किया सांकेतिक विरोध प्रदर्शन

728x90
Spread the news

11 से 15 तक याद है ना के तहत सरकार के द्वारा पूर्व में घोषित वादो को सोशल मीडिया एवं कार्यस्थल पर बैनर पोस्टर के माध्यम से पुनः स्मारित करेंगे कार्यपालक सहायक

16 जुलाई को कैंडल मार्च एवं 17जुलाई को करेंगे भिक्षाटन कार्यक्रम

वसीम अख्तर
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ, बिहार के आह्वान पर जिला ईकाई मधेपुरा द्वारा बुधवार 8 तारीख से चरणबद्ध तरीके से अपनी विभिन्न मांगों के समर्थन में आंदोलन शुरू किया गया। आंदोलन के पहले दिन बुधवार को पुरैनी प्रखंड में विभिन्न विभागों में कार्यरत कार्यपालक सहायक ने काला बिल्ला लगाकर सांकेतिक विरोध किया । इनका कहना है की जबतक सरकार हमलोगो का स्थायीकरण और सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नही कराएगी आंदोलन अनवरत जारी रहेगा।

बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ के पुरैनी प्रखंड ईकाई के प्रखंड प्रभारी अनिल राज ने बताया की बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी, सामान्य प्रशासन विभाग, बिहार के द्वारा विज्ञापित विज्ञापन के निर्देशों के आलोक में जिला स्तर पर जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में गठित चयन समिति के द्वारा लिखित परीक्षा एवं कंप्यूटर दक्षता परीक्षा पास अभ्यर्थियों के बनाए गए पैनल से आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुए स्वीकृत पद पर राज्य सरकार के महत्वाकांक्षी योजनाएं लोक सेवाओं का अधिकार अधिनियम 2011, लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम, पंचायत सशक्तिकरण योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के साथ-साथ विभिन्न विभागों के आदेश के आलोक में ग्राम पंचायत/प्रखंड स्तरीय कार्यालय/जिला मुख्यालय/प्रमंडलीय कार्यालय/सचिवालय/ स्तरीय कार्यालय तक विभिन्न विभागों द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न योजनाओं/कार्यक्रमों/विभाग संबंधित कार्यों हेतु कार्यपालक सहायक का नियोजन कंप्यूटर, प्रिंटर एवं अन्य संबंधित उपस्कर सहित सरकारी कार्यालयों में नियोजित किया गया है।

कार्यपालक सहायकों द्वारा कंप्यूटर एवं आईटी संबंधी कार्यों से लेकर कार्यालय स्तर तक के सभी कार्यों को वर्ष 2010-2011 से ही सफलता पूर्वक किया जा रहा है तथा सरकारी योजनाओं के सफल एवं पारदर्शी क्रियान्वयन में अपना योगदान दे रहे हैं, जिसके फलस्वरूप बिहार सरकार को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई बार सम्मानित भी किया गया है। कार्यपालक सहायकों का कार्य स्थाई प्रकृति का है परंतु आज भी हम लोग अल्प मानदेय में कार्य कर रहे हैं जिसके कारण अपने एवं पारिवारिक दायित्वों के निर्वहन में काफी कठिनाई होती है। संविदा कर्मियों के नियमितीकरण हेतु उच्च स्तरीय समिति के अनुशंसा को लागू करने हेतु सामान्य प्रशासन विभाग, बिहार पटना द्वारा संकल्प भी जारी किया गया था, परंतु बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी, बिहार पटना द्वारा उसका अनुपालन नहीं किया जा रहा है, जिससे सभी कार्यपालक सहायकों में असंतोष है।

उक्त संकल्प पत्र जारी होने के 21 माह बीत जाने के बाद भी सभी अनुशंसाओ के अनुपालन नहीं किए जाने से हम सभी कार्यपालक सहायकों के मनोबल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने से हमारे कार्य क्षमता का ह्रास होता है।

मौके पर अनिल राज, ओमप्रकाश कुमार, प्रमोद कुमार, संतोष कुमार, गौरव कुमार, गणेश कुमार, राकेश कुमार, जयकिशोर, अमन कुमार, बेबी कुमारी, पूनम कुमारी, काजल कुमारी, पिंकी कुमारी सहित सभी कार्यपालक सहायक मौजूद थे।


Spread the news