नालंदा : जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय सलाहकार एवं समीक्षा समिति की हुई बैठक

Spread the news

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

नालंदा/बिहार : जिला समाहरणालय के हरदेव भवन के सभागार में जिला पदाधिकारी योगेंद्र सिंह की अध्यक्षता में जिला स्तरीय सलाहकार एवं समीक्षा समिति (DLCC/DLRC) की बैठक आहूत की गई।

जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि लॉकडाउन के कारण जिला में हजारों कामगार अपने घर वापस आये हैं, इन लोगों की स्किल मैपिंग भी कराई गई है इनमें से 10 हजार से अधिक कुशल श्रेणी के कामगार भी हैं, इन कामगारों को विभिन्न विभागों की योजनाओं के माध्यम से अधिक से अधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना सरकार की उच्च प्राथमिकता है। कामगारों की मदद के लिए जिला निबंधन एवं परामर्श केंद्र(DRCC) में काउंसलिंग सेंटर स्थापित किया जा रहा है। सभी विभागों एवं बैंकों को अधिक से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए त्वरित कार्य योजना के आधार पर कार्रवाई सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया।

कृषि एवं सहायक गतिविधियों के तहत विभिन्न योजनाओं, गतिविधियों के लिए योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक लोगों को मुहैया कराने के लिए कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा गया। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुद्रा लोन आदि के तहत भी लोगों को प्रोजेक्ट ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है, इसमें और भी तेजी लाने का निर्देश दिया गया है। विगत बैठकों में जिला के सभी कार्यरत पंचायत सरकार भवनों में बैंक शाखा, ग्राहक सेवा केंद्र की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु आदेश दिया जाता रहा है। अबतक 7 पंचायत सरकार भवनों में यह सुविधा उपलब्ध कराई गई है अन्य पंचायत सरकार भवनों में भी बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराने हेतु सभी बैंकर्स को कार्रवाई करने का निदेश दिया गया है । वित्तीय वर्ष 2019-20 में एनुअल क्रेडिट प्लान के तहत सभी बैंकों की औसत उपलब्धि लगभग 58 प्रतिशत रही है। कुछ बैंकों की उपलब्धि असंतोषजनक पाई गई। विगत वित्तीय वर्ष में जिला के बैंकों का सकल साख जमा अनुपात 33.43 प्रतिशत रहा है। कुछ बैंकों की उपलब्धि इसमें भी असंतोषजनक रही है।

जिला पदाधिकारी ने औसत से कम उपलब्धि वाले बैंकों के साथ प्रत्येक सप्ताह उपलब्धि की समीक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश जिला अग्रणी प्रबंधक को दिया।उन्होंने बैंक ब्रांच वार इसकी समीक्षा कर खराब उपलब्धि वाली शाखाओं के लिए शार्ट टर्म लक्ष्य निर्धारित करने का निर्देश दिया। इसकी भी साप्ताहिक समीक्षा करने को कहा गया।

सभी बैंकर्स को अधिक से अधिक लोगों को रोजगार हेतु उदारता एवं संवेदनशीलता के साथ ऋण उपलब्ध कराने को कहा।

इस अवसर पर बैठक में उप विकास आयुक्त राकेश कुमार, नगर आयुक्त अंशु अग्रवाल, वरीय उपसमाहर्ता बैंकिंग रत्नाकर झा, अग्रणी जिला प्रबंधक, विभिन्न बैंको के क्षेत्रीय स्तर के पदाधिकारी, अन्य बैंकों के प्रतिनिधि एव विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।


Spread the news
advertise