मधेपुरा : सड़क नहीं तो-वोट नहीं, के नारे के साथ ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शन

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : शनिवार को सदर प्रखंड के मधुबन पंचायत के तुरकाही गांव की मुख्य सड़क निर्माण के काम में अनियमितता बरतने को लेकर आक्रोशित स्थानीय ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया । सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण सड़क पर उतर कर संवेदक एवं स्थानीय जनप्रतिनिधि पर काम में लापरवाही बरतने को लेकर जमकर नारेबाजी की । प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने बताया कि इस सड़क का निर्माण कार्य  2019 में ही पूरी हो जानी चाहिये थी, लेकिन संवेदक की मनमानी एवं संबंधित विभाग की उदासीनता के कारण सड़क निर्माण कार्य आधा अधूरा छोड़ दिया गया है । जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है ।

विज्ञापन

मालूम हो कि एनएच 106 तुरकाही गोठ मधुवन से तुरकाही शर्मा टोला तक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 2.575 किलोमीटर की बीआर-20आर-164 सड़क का निर्माण श्यामानंद कुंवर नाम की कंस्ट्रक्शन कंपनी के द्वारा निर्माण कराया जाना था, जिस कार्य को मार्च 2019 में संपन्न करने की बात कही गई थी, लेकिन विभागीय लापरवाही के कारण अब तक सड़क निर्माण कार्य अधर में लटका हुआ है । ग्रामीणों ने कहा कि इस मामले में कई बार विभागीय अधिकारी से शिकायत करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई तो मजबूरन ग्रामीणों को आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ा है ।

जर्जर सड़क के कारण एंबुलेंस भी नहीं आती है गांव : स्थानीय सतीश कुमार ने कहा कि सड़क पर बने गड्ढे एवं हल्की सी बारिश में जल जमाव के कारण सड़क कीचड़मय हो जाता है ।  उन्होंने कहा कि इस सड़क से ग्रामीण सहित आसपास के कई गांव के लोग इस रास्ते से आते जाते है जिन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है । उन्होंने बताया कि बरसात में अगर कोई बीमार पड़ जाता है या फिर किसी गर्भवती महिला को प्रसव के लिए अस्पताल पहुंचाने की नोबत आती है तो गांव में एंबुलेंस या फिर कोई निजी वाहन भी नहीं आता है, क्योंकि रास्ते काफी जर्जर है । ऐसी स्थिति में  मरीजों के परिजनों को मरीजों को खटिया पर टांग कर अस्पताल पहुंचाना पड़ता है ।  कभी-कभी समय पर अस्पताल नहीं पहुंचने के कारण रास्ते में ही मरीज दम तौड़ देते हैं ।

ग्रामीणों ने लापरवाही को लेकर प्रशासन को चेताया, कहा नहीं किया पहल जो करेंगे चुनाव का बहिष्कार : सड़क पर प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने कहा कि अगर जल्द इस पर कोई पहल नही किया गया तो हमलोग जिला मुख्यालय में धरना पर्दशन करेंगे एवं जरूरत पड़ी तो उग्र आंदोलन भी करेंगे । वहीं सड़क नहीं तो वोट नहीं, के नारे लगा रहे ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों पर भी उदासीनता का आरोप लगाते हुये कहा कि अगर आचार संहिता लागू होने से पहले निर्माण कार्य संपन्न नहीं हुआ तो चुनाव एवं जनप्रतिनिधियों के बहिष्कार करेंगे ।

 मौके पर सज्जन शर्मा, राजेश शाह, नंदन शर्मा, कुंदन कुमार, मनोज साह, पर्फुल यादव, रणविजय कुमार यादव, संतोष कुमार, रुपेश कुमार, अमित कुमार, राजीव कुमार, रविंद्र यादव, अबद यादव, विपिन कुमार, संजय शर्मा, भ्रमदेव शर्मा, कोको यादव, मुकेश यादव, अशीष कुमर, मनीष साह, हटल ऋषीदेव, राधे यादव, मिथुन यादव, राजकुमार शर्मा, सिकंदर शर्मा, अग्रवाल यादव सहित दर्जनों लोग मौजूद थे ।


Spread the news