नालंदा : कोरोना पॉजिटिव के 3 नए मरीज मिलने से जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 114

728x90
Spread the news

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

नालंदा/बिहार : जिले में करोना संक्रमणों के मिलने का सिलसिला लगातार जारी है और बृहस्पतिवार को 3 नए मरीज मिलने से जिले में करोना पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 114 हो गई है। बुधवार को भी बिहार शरिफ के कटहल टोला महल्ला में 35 वर्षीय एक नौजवान करोना पॉजिटिव पाया गया था, जिसके कारण मोहल्ले को सील किया गया और 30 लोगों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि उक्त नौजवान स्थानीय क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे अपने रिश्तेदारों को रोजाना खाना पहुंचाने जाता था और वह अपने परिवार के साथ रह रहा था, इसी कारण मुहल्ले को सील किया गया है। इधर बृहस्पतिवार को एक बार फिर दो करोना पॉजिटिव के नए मरीज जिसमें एक एकंगर सराय का निवासी और दूसरा इस्लामपुर का निवासी बताया जा रहा है, जो दिल्ली और पुणे से आया था और दोनों पॉजिटिव पाया गया, इसके अलावा बिहार थाना के एक पुलिस कर्मी भी करुणा पॉजिटिव पाया गया है, इस तरह नालंदा जिले में कोरोना पॉजिटिव के मरीज के मिलने का सिलसिला लगातार जारी है।

ताजा अपडेट से पता चलता है कि 555 सैंपल जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें 155 की रिपोर्ट मिल चुकी है, जिसमें 2 पॉजिटिव और 153 नेगेटिव पाया गया है, जबकि 400 सैंपल की जांच रिपोर्ट अभी तक प्राप्त नहीं हुई है। जिले में अब तक कुल 114 करोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं, जिसमें 89 सेहत  लाभ लेकर अपने घर वापस आ चुके हैं और होम क्वॉरेंटाइन कर रहे हैं, जबकि 24 पॉजिटिव मरीज का इलाज चल रहा है और एक की मृत्यु हो चुकी है।

जिला प्रशासन की ओर से बार-बार जिला वासियों को बगैर जरूरत के घरों से बाहर ना निकलने और हर हाल में मास्क मुंह पर लगाने का अनुरोध किया गया है, इसके बावजूद बेरोकटोक लोग घरों से बाहर निकलकर करोना संक्रमण को आमंत्रण दे रहे हैं। सावधानी ही इस बीमारी की बचाव है अगर जनता के द्वारा जिला प्रशासन की बातों को नजरअंदाज किया तो इसका गंभीर परिणाम होंगे।

 दूसरी ओर जिला सिविल सर्जन डॉ राम सिंह ने बताया के सावधानी से ही करोना संक्रमण से बचाव हो सकता है और मुंह पर मास्क लगाना सबसे ज्यादा जरूरी है, मुंह पर मास्क लगाने को अपने जीवन में पूरी तरह अपना ले तभी आप सुरक्षित रह सकते हैं। जापान के लोग शुरू से ही मास्क का प्रयोग करते थे जिसके कारण करोना संक्रमण सबसे कम वहां पर फैला है। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन-05 में अन लॉक -01 में केंद्रीय सरकार के गाइडलाइन पर ही कार्य करें बेवजह घरों से बाहर ना निकले और घरों में ही सुरक्षित रहें, सावधानी ही इस बीमारी की बचाव है।


Spread the news