सुपौल : छातापुर में सरकारी खाद्यान्न की कालाबाजारी शबाब पर, विभागीय पदाधिकारी खामोश 

728x90
Spread the news

 छातापुर से रियाज खान की रिपोर्ट :

छातापुर/सुपौल/बिहार : लॉकडाउन के बीच सरकारी खाद्यान्न की कालाबाजारी की खबरें लगातार आ रही हैं, डीलर गरीबों का निवाला छिनने का मौका नहीं चूक रहे।

ताजा मामला छातापुर थाना क्षेत्र के माधोपुर पंचायत के वार्ड नंबर तीन का है, जहां पुलिस ने शुक्रवार की मध्य रात्रि ग्रामीणों की सुचना पर माधोपुर पहूंचकर कालाबाजारी के लिए ले जाये जा रहे 43 बैग चावल बरामद किया है। बरामद चावल को कब्जे में लेकर पुलिस अग्रेतर कार्रवाई के लिए विभागीय स्तर से लिखित आवेदन मिलने की प्रतिक्षा में है।

 ग्रामीणों ने बताया कि मामले की जानकारी देने के लिए उनलोगों ने कई बार एसडीएम एवं बीडीओ के नंबर पर फोन लगाया, लेकिन दोनों के द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया, जिसके बाद समुचित कार्रवाई को लेकर संदेह होने पर उन्होंने डीएम व एसपी को वस्तुस्थिति से अवगत कराया है, बावजूद इसके कोई भी प्रशासनिक पदाधिकारी जांच के लिए स्थल पर नहीं पहुँच पाये हैं।

 बताया कि माधोपुर वार्ड संख्या तीन के डीलर मो शकील के दुकान के सामने मध्यरात्रि बीआर 38 जी 5538 नंबर की पावरट्रेक ट्रेक्टर लगाकर सरकारी खाद्यान्न लोड किया जा रहा था, शौच के लिए घर से बाहर निकले ग्रामीणों ने ट्रेक्टर पर खाद्यान लोड होता देखकर शोर मचाया, जहां लोगों की भीङ जमा होने लगी, स्थिति को भांपकर चालक ट्रेक्टर लेकर मौके से उत्तर दिशा की ओर भाग निकला, लेकिन कई बाईक से ग्रामीणों के द्वारा ट्रेक्टर का पीछा किया गया, करीब डेढ़ किलोमीटर दूरी पर स्थित पश्चिम टोला के समीप सङक किनारे चावल अनलोड कर चालक ट्रेक्टर लेकर भाग निकलने में कामयाब हो गया।

पीछा कर रहे ग्रामीणों के द्वारा पुलिस को सुचना दी गई, जिसके बाद स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और चावल को कब्जे में लेते हुए दूसरे ट्रेक्टर पर लादकर थाना लाया गया। ग्रामीणों की मानें तो ट्रेक्टर पर खाद्यान्न लोड करने वाले किशोर उम्र के मजदूर को भी संदेह के आधार पर पकङकर पुलिस के हवाले किया गया है।

इधर उक्त मामले के बाद, अब लोगों के बीच चर्चा गर्म है कि गरीबों के निवाले पर इसी तरह डाका डालने वालों को बचाया जाता रहा, तो फिर गरीबों को उनके हक का राशन मिलने से पहले ही कालाबाजारी की भेंट चढ़ जाएगा। सरकार का डर खत्म हो जाएगा।


Spread the news