मधेपुरा : पांच जिलों के 187 मजदूरों को लेकर गाजियाबाद से दौरम मधेपुरा स्टेशन पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : कोरोना संक्रमण को लेकर राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन के चौथे चरण के छठे दिन शनिवार को गाजियाबाद से दौरम मधेपुरा स्टेशन श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची ।  गाजियाबाद से प्रवासियों को लेकर चली 04060 नंबर की श्रमिक स्पेशल ट्रेन शनिवार को सुबह 9:30 बजे दौरम मधेपुरा स्टेशन पहुंची ।  यह ट्रेन लगभग 15 घंटे लेट से मधेपुरा पहुंची ।

देखें वीडियो :

दौरम मधेपुरा स्टेशन पर प्रवासियों को उतारकर यह ट्रेन पूर्णिया होते हुए कटिहार चली गई । मधेपुरा स्टेशन उतरने वाले सभी प्रवासी को सकुशल घर वापसी को लेकर जिला प्रशासन द्वारा पूरे स्टेशन पर व्यापक तैयारी की गई थी । सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए साभी प्रवासी को ट्रेन से उतारा गया एवं मेडिकल टीम के द्वारा जांच कराते हुए नाश्ता के साथ तैयार बसों के माध्यम से स्टेडियम की ओर रवाना किया गया ।

पांच जिलों के 187 प्रवासी उतरे दौरम मधेपुरा स्टेशन : अपर समाहर्ता लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी शिव कुमार शैव, अपर समाहर्ता उपेंद्र कुमार, उप विकास आयुक्त विनोद कुमार सिंह, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी वसी अहमद, सदर अनुमंडल पदाधिकारी वृंदा लाल, जिला नजारत उप समाहर्ता रजनीश कुमार राय, एमवीआई राकेश कुमार समेत सदर अस्पताल के सभी अधिकारी एवं कर्मी व अन्य वरीय अधिकारी एवं पुलिस बलों के सहारे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए जांच के बाद सभी को स्टेडियम भेजा गया ।  जहां से उन्हें गृह जिला एवं गृह प्रखंड भेजा गया ।

 इस श्रमिक स्पेशल ट्रेन से पांच जिलों के 187 प्रवासी दौरम मधेपुरा स्टेशन उतरे ।  जिसमें 122 प्रवासी मधेपुरा जिला के विभिन्न प्रखंडों के रहने वाले थे ।  बांकी 65 प्रवासी अन्य जिलों के रहने वाले थे ।  जिसमें दरभंगा के तीन, मधुबनी के 15, सहरसा के तीन एवं सुपौल के 44 प्रवासी दौराम मधेपुरा स्टेशन पर उतरे ।

सबसे अधिक उदाकिशुनगंज के प्रवासी : गाजियाबाद से कटिहार के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन में 122 प्रवासी मधेपुरा जिला के विभिन्न प्रखंडों के रहने वाले थे । जिसे जिला प्रशासन के द्वारा तैयार बसों के माध्यम से स्टेशन से जिला मुख्यालय स्थित स्टेडियम भेजा गया । जहां से उन्हें उनके संबंधित प्रखंडों के क्वारेंटिन सेंटर में भेजा गया । ट्रेन से उतरने वाले मधेपुरा जिला के 122 प्रवासियों में सदर प्रखंड के 10, घैलाढ़ प्रखंड के 11, गम्हरिया प्रखंड के 17, सिंहेश्वर प्रखंड के 15, शंकरपुर प्रखंड के चार, मुरलीगंज प्रखंड के आठ, कुमारखंड प्रखंड के चार, ग्वालपाड़ा प्रखंड के एक, बिहारीगंज प्रखंड के नौ, उदाकिशुनगंज प्रखंड के तीस, पुरैनी प्रखंड के तीन, चौसा प्रखंड के तीन एवं आलमनगर प्रखंड के सात प्रवासी रहने वाले थे ।

15 घंटा लेट से ट्रेन पहुंचने पर प्रवासियों में दिखा आक्रोश : गाजियाबाद से कटिहार के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन दौराम मधेपुरा स्टेशन लगभग 15 घंटे लेट से पहुंची ।  04060 नंबर की श्रमिक स्पेशल ट्रेन गाजियाबाद से 21 मई को रात आठ बजे खुली ।  जिसे 22 मई को शाम 7:30 बजे कटिहार पहुंचना था, लेकिन यह ट्रेन 23 मई यानी शनिवार को सुबह 9:30 बजे मधेपुरा स्टेशन पहुंची. इस ट्रेन को मधेपुरा स्टेशन पहुंचने में लगभग 15 घंटा लेट हो गया, जिस कारण प्रवासियों में आक्रोश भी रहा । दौरम मधेपुरा स्टेशन उतरे तथा ट्रेन में उपस्थित प्रवासियों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि एक तो ट्रेन लेट से चल रही है । वहीं दूसरी तरफ लोगों के खाने-पीने के लिए भी ट्रेन में कोई व्यवस्था नहीं की गई है ।  लोगों ने कहा कि ट्रेन में लगभग तीन दिनों से के लोग भूखे प्यासे अपने घर जा रहे हैं । लोगों ने कहा कि जिन लोगों ने रास्ते में खाने के लिए कुछ ले लिया था, उनकी स्थिति तो लगभग ठीक ठाक थी ।  मगर ऐसे लोग जिनके पास खाने के लिए कुछ नहीं था तथा बच्चे एवं बूढों की स्थिति बेहद ही खराब हो चुकी थी । लोगों ने कहा कि सरकार द्वारा लोगों को उनके घर तो भेजा जा रहा है, लेकिन ट्रेन में लोग कैसे सफर कर रहे हैं उनकी स्थिति पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है ।

पुलिस छावनी में तब्दील कर दी गई स्टेशन परिसर : दौराम मधेपुरा स्टेशन पर कड़ी सुरक्षा एवं तैयारियों के साथ गाजियाबाद से आई लगभग 187 प्रवासियों को सकुशल उनके गृह जिला एवं गृह प्रखंड पहुंचाने का कार्य जिला प्रशासन द्वारा शनिवार को किया गया । पूरे स्टेशन परिसर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दी गई थी ।  ट्रेन के बोगी के दूसरे तरफ यानी प्लेटफार्म नंबर दो पर कोई प्रवासी ना उतरे, इसको लेकर प्लेटफार्म नंबर दो वाले भाग में भी पुलिस बलों की भारी संख्या में तैनाती की गई थी । इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने को लेकर सभी बोगी के आगे पुलिस बलों की तैनाती की गई थी, जिनसे एक-एक करके बोगियों से लोगों को उतारा गया एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए मेडिकल टीम के आगे से जांच के लिए गुजारा गया ।

जिसके बाद सभी लोगों को कतारबद्ध करके नाश्ता का पैकेट देते हुए बसों में बैठाया गया ।  स्टेशन परिसर से लेकर बस तक, जगह-जगह पर पुलिस बलों की तैनाती की गई थी. प्रवासियों को को किसी तरह की परेशानी ना हो, इसके लिए अधिकारियों द्वारा लगातार पुलिस बलों एवं संबंधित कर्मियों को निर्देशित किया जा रहा था ।  इस दौरान सभी वरीय अधिकारी स्वयं निगरानी कर रहे थे ।


Spread the news