बिहार स्वास्थ्य विभाग का हाल बेहाल : छातापुर पीएचसी में अब तक नहीं थी स्क्रीनिंग की व्यवस्था, वरिय चिकित्सक ने अपने निजी कोष से पीएचसी को लेज़र थर्मोमीटर किया डोनेट

Spread the news

रियाज खान की रिपोर्ट :

छातापुर/सुपौल/बिहार : छातापुर पीएचसी में पदस्थापित वरिय चिकित्सक डॉ ललन कुमार ठाकुर ने अपने निजी कोष से पीएचसी को एक उच्च स्तरीय लेज़र थर्मोमीटर डोनेट किया है। डॉ श्री ठाकुर ने सोमवार को पीएचसी प्रभारी डॉ नवीन कुमार को लेजर थर्मोमीटर प्रदान कर इसके अभाव को खत्म किया।

मालूम हो कि छातापुर पीएचसी में दूसरे प्रदेशों से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग कराने की व्यवस्था अब तक नहीं थी क्योंकि विभाग द्वारा छातापुर पीएचसी को लेज़र थर्मोमीटर उपलब्ध नहीं कराया गया था, जिस वजह से दूसरे प्रदेशों से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग नहीं हो पा रही थी। लेजर थर्मोमीटर उपलब्ध हो जाने से अब संक्रमण संदिग्ध लोगों की स्वास्थ्य जांच करने में चिकित्सीय टीम को सुविधा होगी। डॉ श्री ठाकुर ने बताया कि नाॅन काॅटेक्ट इंफ्रारेट थर्मोमीटर से मानव शरीर का तापमान चेक किया जाता है। बुखार कोरोना मरीज का सबसे पहला लक्षण होता है जिसकी जांच के लिए लेजर थर्मोमीटर आती आवश्यक है।

बहरहाल इसकी जरूरत को देखते हुए उन्होंने अपनी ओर से उच्च स्तरीय लेजर थर्मोमीटर पीएचसी को डोनेट किया है। ताकि इसका लाभ आमलोग सहित स्वास्थकर्मियों को मिल सके।

वहीं मौके पर मौजूद प्रभारी सहित डॉ शंकर कुमार, डॉ श्रवण कुमार, डॉ देवेंद्र प्रसाद, प्रबंधक नौमान अहमद के अलावे चिकित्साकर्मियों ने प्रशन्नता व्यक्त करते हुए थर्मोमीटर डोनेट करने के लिए डॉ श्री ठाकुर का आभार जताया। कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की प्रारंभिक जाँच के लिए पीएचसी को लेजर थर्मोमीटर की आवश्यकता थी।


Spread the news
advertise