मधेपुरा : कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जेकेटी पूरी तरह तैयार-डीएम

728x90
Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : : कोरोना वायरस को लेकर जहां सरकार द्वारा 14 अप्रैल तक लॉक डाउन करने का निर्देश दिया गया है । वहीं इस वायरस से बचाव के लिए तथा संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, सदर अस्पताल प्रशासन तथा जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद है । जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में तैयार 106 बेड के आइसोलेशन वार्ड एवं  मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में किए जा रहे मॉक ड्रिल का मंगलवार को जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला, पुलिस अधीक्षक संजय कुमार, एडीएम शिव कुमार शैव, एडीएम उपेंद्र कुमार ने निरीक्षण किया । डीएम, एसपी समेत अन्य अधिकारियों ने परिसर में बने आइसोलेशन वार्ड, क्वॉरेंटाइन सेंटर समेत अन्य वार्डों का निरीक्षण किया ।

ज्ञात हो कि मधेपुरा समेत आस-पास के अन्य जिलों में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज की सुविधा नहीं थी । क्षेत्र के मरीजों को स्थानीय स्तर पर इलाज की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल को तैयार किया गया है ।जिसमें 106 का आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है ।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जेकेटी पूरी तरह तैयार : जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है । जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में 106 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार है । जिसमें संदिग्ध लोगों को लाया जाएगा तथा आइसोलेटेड किया जाएगा । उन्होंने बताया कि आइसोलेशन वार्ड की स्थिति दुरुस्त है । उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल पूरी तरह तैयार है । अपनी सुरक्षा करते हुए कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करने के लिए मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में मॉक ड्रिल करवाया जा रहा है । वही जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में कोरोना वायरस को लेकर संदिग्ध लोगों को आइसोलेटेड करने के लिए 106 बेड तैयार है । इस मॉक ड्रिल में डॉक्टर, पारामेडिकल स्टाफ, नर्स, सफाई कर्मचारियों को कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज एवं उसके देखभाल करने के साथ ही, अपनी सुरक्षा बरतने की भी जानकारी दी गई है । डॉक्टर, पारामेडिकल स्टाफ, नर्स, सफाई कर्मचारियों को विभिन्न विभाग के विभागाध्यक्ष कोरोना से संबंधित बचाव के लिए जानकारी दे रहे हैं ।

बॉयज हॉस्टल को क्वॉरेंटाइन सेंटर के लिए किया गया चिन्हित : डा अंजनी कुमार ने बताया कि मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल कोरोना वायरस के संदिग्ध लोगों को आइसोलेटेड करने के लिए पूरी तरह तैयार है । आइसोलेशन वार्ड में विभागीय डॉक्टर एवं कर्मियों को कार्य सौंपा गया है । कोरोना संक्रमण से बचाव में कोई त्रुटि ना रह जाए इसके लिए संबंधित डॉक्टर एवं कर्मियों का मॉक ड्रिल करवाया जा रहा है । उन्होंने बताया कि अस्पताल में 106 बेड का आइसोलेशन वार्ड तथा 10 बेड का क्वॉरेंटाइन सेंटर तैयार है । साथ ही उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज परिसर में बनी बॉयज हॉस्टल को भी क्वॉरेंटाइन सेंटर के लिए चिन्हित कर लिया गया है । बॉयज हॉस्टल को क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाने के लिए तैयारी जोर-शोर से की जा रही है । उन्होंने बताया कि जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला के द्वारा मेडिकल कॉलेज परिसर में बने गर्ल्स हॉस्टल एवं बॉयज हॉस्टल क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाने के लिए पत्र दिया गया था । जिसके बाद बॉयज हॉस्टल को क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाने की तैयारी की जा रही है । उन्होंने बताया कि गर्ल्स हॉस्टल के आसपास डॉक्टर समेत अन्य कर्मियों के आवास हैं ।इसलिए गर्ल्स हॉस्टल को  क्वॉरेंटाइन सेंटर ना बनाया जाए, इसके लिए जिला पदाधिकारी को पत्र भेजा गया है ।


Spread the news