कोरोना वायरस : सावधान रहे सतर्क रहे और स्वयं का बचाव करें, आप का जीवन सुरक्षित तो मानव सभ्यता सुरक्षित

728x90
Spread the news

              सा वधान रहे सतर्क रहे और स्वयं का बचाव करे। आप का जीवन सुरक्षित तो मानव सभ्यता सुरक्षित। सरकार जनता की चुनी हुई जनता के लिए कार्य करती है । आज सरकार जनता सुरक्षा  के लिए संकल्पित और चिन्तित है । डरे नहीं संकट की स्थिति का मुकाबला करे और इस संकट से निकलने का एकमात्र रास्ता है घर से बाहर नहीं निकले।

लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें।हर व्यक्ति कोरोना से संबंधित किसी भी तरह की भ्रामक मनगढ़ंत खबर सोशल मीडिया पर शेयर ना करें । सरकारी एजेंसियों के द्वारा जारी जानकारियों पर ही भरोसा करें। यह अभियान नही है। बल्कि महामारी से बचाने के लिये शुरुआत है, आवश्यक है कि कोरोंना बीमारी की गंभीरता को समझे, अपने परिवार और अन्य व्यक्तियों के सीधे संपर्क से बचे, खासकर ऐसे लोग जो नित्य प्रति सार्वजनिक स्थानों होटल, और विदेश से आने वालों के संपर्क में है। इसे राजनीतिके चश्मे से नही देखे। सरकार द्वारा दिए गये निर्देशो का पूर्ण पालन करने से ही बचा जा सकता है। कुछ महानुभाव इसे अभी भी बड़ी मजाक समझ रहे है। जब यूरोप जैसे विकसित देशों, अमेरिका जहाँ मेडिकल सुविद्याये बहुत उत्तम है मौतों का यह आंकड़ा प्रतिदिन तेज़ी से बढ़ रहा है तो भारत मे क्या हाल होगा इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है।

घर मे 15- 20 दिन हम रोटियां चटनी से भी खा कर ज़िंदा रह सकते है। इससे यह  वायरस के फैलने की श्रृंखला टूटेगी, और जो इन 15 दिनों में बीमार होंगे वह सीधे अस्पतालों में होंगे, उनके परिवार अलग हो जाएंगे उनकी ठीक होने की संभावना बहुत ज्यादा होगी, म्रत्यु दर कम होगी, साथ ही साथ वायरस बिना मानव के मर जायेंगे। सभी स्थान स्वत: संक्रमण मुक्त होजाएँगे । सभी इस वायरस से संक्रमित लोग एक निश्चित स्थान पर डॉक्टर की देखरेख में होंगे। यानी हमारी थोड़ी सी सावधानी से हमारा बहुत बड़ा नुकसान होने से बच जाएगा। और यदि हम नही माने तो अस्पताल कम पड़ जाएंगे, और संक्रमण फैलता ही चला जाएगा। फिर कोई भी कन्धा देने वाला नही मिल पायेगा।

इसलिये हंसी मजाक छोड़िए। जो आदेशो का पालन नही कर रहे है उन्हें भी समझा दे। मुझे पूरा विश्वास है कि हम सब साथ मिलकर इस चुनौती का सफलतापूर्वक सामना करने में सक्षम होंगे । लोग यथासंभव घरों में ही रहें। जरूरी काम हो तभी बाहर निकलें। कोई भी हो लॉकडाउन तोड़ने वालों पर की जाए सख्त कार्रवाई। आमजन इस संक्रमण काल में जो भी लॉक डाउन तथा सरकारी आदेशों की अवहेलना जानबूझकर कर रहे हैं उनसे नफरत कीजिए, और इनसे परमानेंट दूरी बनाकर रखें। ये मानवता के दुश्मन हैं। मंदिरों मस्जिदों एवं गुरुद्वारों नही जाकर कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए घर से ईश्वर को स्मरण कर प्रार्थना करे।

मृत्युंजय कु सिंह, अध्यक्ष बिहार पुलिस एसोसिएशन


Spread the news