पंजाब सरकार एन.पी.आर. पर प्रतिबंध लगाए : शाही इमाम पंजाब

फोटो : प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी।
Spread the news

विज्ञापन

लुधियाना शाहीन बाग से 2010 के आधार पर जनगणना करवाने की मांग

मेराज आलम
ब्यूरो-लुधियाना, पंजाब

लुधियाना/ पंजाब :  केंद्र सरकार खिलाफ  शहर की दाना मंडी में चल रहे शाहीन बाग प्रदर्शन के आज 20वें दिन लौहारा, गिल से प्रधान मुहम्मद सिराज, कुतबुदीन, बेचन अंसारी, मौलाना मौला बख्श, कारी अता मुहम्मद, फरमान अली, हाजी दिलवर, अहमद अली अंसारी, शहीद, शहजाद के साथ मर्द और औरतों का काफिला शाहीन बाग पहुंचा।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने पंजाब सरकार से मांग करते हुए कहा कि पंजाब में केंद्र द्वारा बनाई गई नई एन.पी.आर. पॉलिसी के ऊपर फौरी तौर पर रोक लगाई जाए। शाही इमाम ने कहा कि एन.पी.आर. ही एन.आर.सी. है, एन.पी.आर. के सर्वे के बाद वह लोगों को डी-वोटर बनाकर संविधान के खिलाफ अपनी कार्रवाई शुरू करना चाहते हैं। शाही इमाम ने कहा कि पंजाब सरकार ने जहां सी.ए.ए के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पारित किया है वही एन.पी.आर के ऊपर भी रोक लगानी चाहिए। आज शहीन बाग में सर्व समती से एक प्रस्ताव पारित कर और पंजाब सरकार से मांग की कि अप्रैल में होने जा रही जनगणना एन.पी.आर. के अनुसार नहीं 2010 में हुई जनगणना के अनुसार की जाए और जनगणना के बीच किसी भी नागरिक से उनके कागज आधार कार्ड पासपोर्ट और जानकारी ना ली जाए।

विज्ञापन

शाही इमाम ने कहा कि सभी नागरिक इस बात को समझ ले कि यह कानून सिर्फ मुसलमानों के खिलाफ नहीं है यह नोट बंदी की तरह हर एक नागरिक को लाइन में लगाने की साजिश है। शाही इमाम ने कहा कि बदकिस्मती की बात है कि करोड़ों साल से इस धरती पर रह रहे,और जिनका जन्म भी इस धरती पर हुआ उन लोगों को सरकार नागरिकता साबित करने के लिए कह रही है। आज शाहीन बाग प्रदर्शन में जसवंत सिंह कानवाला, जसवंत सिंह चीमा, जोगिन्द्र राए, जतिंदर सिंह मेहल कलां, हरीश चन्द्र ने भी संबोधित किया।

विज्ञापन

वरुण आनंद की शायरी पर लगे भारत वंश जिंदाबाद के नारे : लुधियाना आज यहां शाहीन बाग में प्रसिद्ध कवि वरुण कुमार आनंद के पहुंचने पर उनका भव्य स्वागत किया गया। उन्होंने अपनी इंकलाबी शायरी से सभी प्रदर्शनकारियों का दिल जीता। वरुण की शायरी के दौरान बार-बार भारत वंश जिंदाबाद, इंकलाब जिंदाबाद, हिंदू-मुस्लिम-सिख-इसाई-दलित जिंदाबाद के जोरदार नारे लगते रहे। वरुण ने अपनी इंकलाबी गज़़ल पेश करते हुए कहा कि :-

अपनों को बेगाना समझा लानत है, वाह रे तेरा गोरख धंदा लानत है!

हाकिम को एक चीठी लिखें सब के सब, और उसमे बस इतना लिखना लानत है!!

इस से बढक़र उस पर लानत क्या होगी, बोल रहा है बच्चा-बच्चा  लानत है!!!

जिस दीवार पे उसके वादे लिखे थे, हमने उसके नीचे लिखा लानत है!!!!


Spread the news
advertise