किशनगंज : जब “किशनगंज पुलिस जिंदाबाद” के नारे गूंज उठा पूरा माहौल

728x90
Spread the news

विज्ञापन
शशिकांत झा
वरीय उप संपादक

किशनगंज/बिहार : भाटाबाड़ी की सरजमीं पर जो इज्जत और सम्मान किशनगंज पुलिस को मिली है , उसके लिए किशनगंज पुलिस आप सबों की शुक्रगुजार है । उक्त बातें जिले के बहादुरगंज थानान्तर्गत भाटाबाड़ी गांव को गोद लेने के क्रम में किशनगंज एस पी कुमार आशीष ने भारी संख्याओं में जुटी भीड़ को संबोधित करते हुए कही ।      

विज्ञापन

जैसा कि 22फरवरी से 27 फरवरी तक बिहार में “पुलिस सप्ताह” मनाया जा रहा है । जिसके माध्यम से पुलिस के उत्कृष्ट कार्यों एवं बदलते परिवेश में पुलिस की भूमिकाओं को दर्शाया जा रहा है । खासकर नशामुक्ति अभियान में अव्वल कहे जाने वाले किशनगंज जिले में अब हमेशा हमेशा के लिए नशा से अलग हो जाने वालों को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित करने का प्रयास जोर शोर से चल रहा है। ऐसे समय में पुलिस निरीक्षक राजेन्द्र प्रसाद और थानाध्यक्ष बहादुरगंज सुमन कुमार सिंह के प्रयासों को अम्लीजामा पहनाने का जिम्मा जिला पार्षद प्रतिनिधि इमरान आलम ने खुद अपने कंधों पर लिया था । जिसके बदौलत इमरान की आवाजें लोगों तक पहुंची और एस पी किशनगंज के स्वागत के लिए सैंकड़ों की भीड़ यहाँ गाजेबाजे के साथ उमड़ पड़ी । जोश ऐसा कि लोगों ने जहाँ एस पी पर फूलों की वर्षा कर दी । वहीं स्थानीय लोगों ने एस पी कुमार आशीष को फूल मालाओं से लादकर किशनगंज पुलिस के दोस्ताना रवैये की एक दास्तां यहां लिख दी ।

लोगों के हुजूम से निकल रही जिंदाबाद के नारों से किशनगंज पुलिस को एक नई पहचान मिल रही थी । यहाँ बने मंच तक पहुंचते हीं इमरान आलम, मो.मुस्ताक ने जहाँ लोगों के साथ मिलकर सभी आगंतुकों में शामिल प्रखंड विकास पदाधिकारी बहादुरगंज जेड आदिल, सी ओ कौशर इमाम, पुलिस निरीक्षक राजेन्द्र प्रसाद, थानाध्यक्ष टेढ़ागाछ निरंजन कुमार यादव, कोढ़ोबाड़ी थानाध्यक्ष नीरज कुमार निराला, बीबीगंज थानाध्यक्ष संदीप कुमार आनंद, चिकित्सा पदाधिकारी निसार अहमद एवं बहादुरगंज के लोकप्रिय थानाध्यक्ष सुमन कुमार सिंह का गर्मजोशी से बुके देकर स्वागत किया ।

खासतौर पर थानाध्यक्ष कोढ़ोबाड़ी नीरज कुमार एवं बहादुरगंज थानाध्यक्ष सुमन कुमार सिंह ने नशा को समाज से उखाड़ फेकने का आह्वान अपने जोशिले भाषणों में किया । इस मौके पर एस पी ने अव्वल दर्जे की पढ़ाई कर सबसे ऊंचे स्थान पर आई छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देकर उनकी हौसला अफजाई की ।

इस कार्यक्रम में बुजुर्गों में साबिर आलम, महबूब आलम (सेवानिवृत्त बैंककर्मी) और कई अन्य हस्तियां भी यहां मौजूद थी ।


Spread the news