मधेपुरा : हत्या, बैंक लूट, डकैती, दंगा भड़काने, जबरन वसूली के लिए धमकाने के आरोपी BJP विधायक नीरज कुमार छात्रों से मांगे माफी, नहीं तो होगा उग्र आंदोलन- जाप छात्र परिषद  

728x90
Spread the news

विज्ञापन

प्रेस विज्ञप्ति/

मधेपुरा/बिहार : 22 फरवरी को BNMU मधेपुरा में सीनेट की बैठक में BJP के विधायक नीरज कुमार सिंह बबलू द्वारा बैठक का विरोध कर रहे छात्रों को गुंडा बताने को लेकर जन अधिकार छात्र परिषद के यूनिवर्सिटी अध्यक्ष अमन कुमार  रितेश और जिला अध्यक्ष रौशन कुमार बिट्टु  ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर विधायक पर करारा हमला बोला है ।

विज्ञापन

 अमन कुमार रितेश ने कहा कि विधायक नीरज कुमार बबलू आंदोलन कर रहे छात्र संगठन को गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया गया जो सही नही है । विधायक जिस पार्टी के नेता है उसी पार्टी के छात्र संगठन  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सबसे पहले यूनिवर्सिटी का गेट बंद कर आंदोलन करने का क्रेडिट लेना शुरू किया था, जबकि गेट बंद रहने के कारण अन्य छात्र संगठन मुख्य द्वार पर ही लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन कर रहे थे । बैठक में विधायक द्वारा कहा गया कि कुलपति के ढिलाई से छात्र नेता ऐसा करते है तो उनको बता देना चाहते हैं कि कुलपति शिक्षा के क्षेत्र से है, आपके ही तरह नहीं है, और सबको पता है आप का इतिहास, किस तरह आप राजनीतिक में आए।  विधायक भूल गए कि वो भी एक जनप्रतिनिधि है । यदि नीरज कुमार बबलू छात्र नेता से माफी नही मांगते है तो इस बयान को लेकर उनके खिलाफ छात्र जाप राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन करेंगे ।

विज्ञापन

वही जनअधिकार छात्र परिषद के जिलाध्यक्ष  रोशन कुमार बिट्टू  ने कहा कि बीएनएमयू में पढ़ने वाले छात्र अधिकाशतः गरीब दलित और पिछड़े वर्ग से आते हैं। इसलिए मनुवादी सोच रखने वाले लोग साजिश के तहत 2012 के छात्रों के आधार पर ही रेशनलाइजेशन लागू कर दिया। जिससे राज्य सरकार और सत्ताधारी दल के मूकदर्शक विधायक जो दुर्भाग्यवश बीएनएमयू के सीनेट सदस्य भी है, उन्होंने बीएनएमयू में हो रही शिक्षकों की कमी पर सदन पर एक शब्द भी नही बोल पाए। जब जन अधिकार छात्र परिषद ने बीएनएमयू में शिक्षकों की कटौती पर सीनेट का विरोध कर रहे थे तो कुछ वो सीनेट सदस्य जो बीएनएमयू की दलाली को अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं, उसे लगा कि हमारी निक्कामापन की पोल खुल गयी इसलिए अनाप-शनाप बयान देकर निकल गए।

विज्ञापन

 वही  दूसरी और एक प्रधानाचार्य सह सदस्य रेणु सिंह ने छात्र संगठन के नेता को बच्चा कहा, क्या ऐसे शिक्षक को पता है लोकतंत्र क्या है ? हकीकत यह है कि ऐसे शिक्षक के व्यवहार से ही छात्र कॉलेज नही आते है, किसी समस्या को लेकर जब कोई छात्रा इनके पास जाती है तो यह उन्हें डराते है पहले पढ़ाना और अपना कर्तव्य करना चाहिए । छात्र संगठन का जो कर्तव्य था हमलोग कर रहे थे । ये वही  नीरज कुमार बबलू है जिस पर हत्या , बैंक लूट, डकैती, दंगा भड़काने, जबरन वसूली के लिए धमकाने जैसे कई मामलों में आरोपी रह चुके हैं। राज्य के हाईवे प्रोजेक्ट को डील करने वाली कंपनी Gammon-India Ltd. ने इस मामले में जनवरी 2008 में इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी।

वही जनअधिकार छात्र परिषद के नेताओ ने कहा कि अगर दोनों छात्रों से माफी नही मांगी तो हम सब बबलू सिंह के खिलाफ आंदोलन करेंगे और उनके आपराधिक इतिहास का उजागर करेंगे ।


Spread the news