खाकी में इंसान : इस पुलिस वाले ने पेश की बेहतरीन पुलिसींग की मिसाल

728x90
Spread the news

शशिकांत झा
वरीय उप संपादक

किशनगंज/बिहार : कहते हैं “ताज्जुब है क्या? मोहब्बत तो दर्द का समंदर है, जगा सकते हो तो जगा लो,   ये सबके अन्दर है । ऐसा ही एक नजारा आज बहादुरगंज में दिखने को मिला जहां जिले के बहादुरगंज थानाध्यक्ष  सुमन कुमार सिंह ने इंसानियत का पैगाम देते हुए बेहतरीन पुलिसिंग का मिसला पेश कर यह साबित कर दिया कि खाकी में भी इंसान का वास होता है, जो ना सिर्फ विधि व्यवस्था को कायम रखने के लिए तत्पर है बल्कि जरूरत पड़ने पर जरूरतमंदों के लिए फरिश्ता बनकर उनकी जरूरत को पूरा करने की हर संभव कोशिश भी कर सकता है ।   

देखें वीडियो :

मालूम हो कि “बिहार पुलिस सप्ताह 2020” का आगा़ज करते एक बेमिसाल तोहफा बहादुरगंज के स्थानीय लोगों को दी है । जहाँ जिन्दगी की जद्दोजहद कर रही परवीन (मुस्कान) की खबर खैरियत के लिए सुमन सिंह अपने पूरी गस्ती टीम के साथ गांगी हाट स्थित इसके दौलतखाने पर आ पहुंचे । जिसके बाद वहाँ मौजूद नौजवानों ने इनका खैरमकदम करते हुए इन्हें मुस्कान के रुबरु कराया । दिल में दर्द का समंदर छुपाये एस एच ओ ने स्थानीय विधायक तौसीफ आलम से मुस्कान के लिए मुलाकात करने की सलाह दी । जो इस वक्त ऐसे बेबस और गरीबों को पुरजोर मदद के लिए आगे आते हैं । जहाँ सलाह देने की बातें सामने आई तो एस एच ओ ने मुस्कान के लिए फौरी मदद की भी पेशकश करते हुए कहा कि मैं खुद से मुस्कान के लिए कुछ कर सका तो ये मेरी खुशकिस्मती होगी । इसके अलावे इस बच्ची को मदद करने के लिए मैं अपनों से गुजारिश कर ,उनकी मदद भी लेने का ख्वहिशमंद हूं और रहूंगा । परवीन (मुस्कान) के सेहतमन्द होने की दुआऐं भी पाक परवर दिगार से मांगी ।

बताना लाज़मी होगा कि एस एच ओ सुमन सिंह ईलाके में दौरा करते वक्त ये इस बात का बखूबी ख्याल रखते हैं कि कोई मदद से मरहूम ना रहे, जो उनकी फितरतों में शुमार होना जाना जाता है । इस मुनासिव मौके पर राग़ीब यजदानी, रेहान, फ़जल, रेज़ा अनवर, इन्तसार, गुलाम और समशेर खासतौर पर मौजूद रहकर थानाध्यक्ष सुमन सिंह का शुक्रिया करते हुए कहा कि -जिसका कोई नहीं, उसका तो खुदा है यारो ।


Spread the news