मधेपुरा : युवक की गोली मारकर हत्या, कातिल का कोई सुराग नहीं, पुलिस ने जताई गैंगवार की आशंका

728x90
Spread the news

विज्ञापन
अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : जिला मुख्यालय के पश्चिमी बाईपास रोड के खेदन बाबा चौक आजाद टोला वार्ड नंबर आठ निवासी जयप्रकाश यादव के 25 वर्षीय पुत्र आशीष राजा को शुक्रवार को दिनदहाड़े साहूगढ़ पुल के समीप संतलाल यमुना महाविद्यालय के पीछे अपराधियों ने गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया।

देखें वीडियो :

जानकारी के अनुसार अपराधियों ने आशीष राजा को लगभग तीन से चार गोली मारी । जिससे आशीष राजा की मौत हो गई । हालांकि आशीष राजा को अपराधियों ने गोली कब मारी और कहां मारी इसकी जानकारी किसी को नहीं है । स्थानीय लोगों ने बताया कि जब कुछ लोग साहूगढ़ सड़क से गुजर रहे थे तो संतलाल यमुना महाविद्यालय के पीछे किसी व्यक्ति का शव दिखाई दिया । जिसकी जानकारी स्थानीय लोगों ने पुलिस प्रशासन एवं मृतक के परिजनों को दिया । घटना की सूचना मिलते ही सदर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिंह पुलिस बल एवं कमांडो टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजने का निर्देश दिया ।

विज्ञापन

आक्रोशित लोगों ने पुलिस प्रशासन के ऊपर लगाया आरोप : आशीष राजा को गोली मारने की खबर जैसे जैसे आस-पास के गांव में फैली लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई । स्थानीय लोगों ने घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए पश्चिमी बाईपास रोड खेदन बाबा चौक के चैती दुर्गा मंदिर के समीप मुख्य मार्ग को जाम कर दिया । आक्रोशित लोगों ने आशीष राजा के शव को सड़क के बीचो बीच रखकर पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की तथा टायर जलाकर प्रदर्शन किया । लोगों ने पुलिस प्रशासन से जल्द से जल्द आशीष राजा के हत्यारे को पकड़ कर सजा दिलवाने की मांग की । आक्रोशित लोगों ने पुलिस प्रशासन के ऊपर गंभीर आरोप लगाया । लोगों का कहना था कि शहर में अपराधियों द्वारा दिनदहाड़े इस तरह की घटना को अंजाम देना बेहद ही दुखद है । अब लोग सड़कों पर दिन के उजाले में भी सुरक्षित नहीं है । लोगों ने कहा कि सदर थाने से महज कुछ ही दूरी पर हुई इस घटना से यह साफ पता चलता है कि अपराधियों में पुलिस का अब भय नहीं रह गया है ।

विज्ञापन

सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची सदर थानाध्यक्षष सुरेश प्रसाद सिंह, सदर अंचलाधिकारी वीरेंद्र झा, पुलिस बल एवं कमांडो टीम ने जाम एवं आगजनी की स्थिति को नियंत्रण करने की कोशिश की, लेकिन आक्रोशित लोग मानने को तैयार नहीं थे । उपस्थित सभी आक्रोशित लोग अपराधियों के खिलाफ तुरंत ठोस कार्रवाई कर जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे । पुलिस प्रशासन के द्वारा जल्द से जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी के आश्वासन के बाद आक्रोशित लोग शांत हुए एवं लगभग दो घंटे बाद सड़क जाम को हटाया गया ।

अपराधी हो चुके हैं बेखौफ और पुलिस प्रशासन मौन : मृतक के चचेरे भाई संजय कुमार ने बताया कि आशीष राजा गुरुवार की देर शाम घर से किसी शादी में शामिल होने के नाम पर घर से निकला था । जिसके बाद वह सुबह तक घर वापस नहीं आया. वहीं उन्होंने बताया कि उन्हें कुछ लोगों द्वारा जानकारी दी गई कि सुबह लगभग आठ बजे खेदन बाबा चौक पर चाय भी पिया था । उसके बात वहां से वह अपने तीन चार दोस्तों के साथ कहीं निकल गया । जिसके बाद उन्हें आशीष राजा के मौत की खबर ही लोगों द्वारा दी गई । उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन के ध्यान भी एवं आशीष राजा के मोबाइल के कॉल रिकॉर्ड निकालने से अपराधियों का पता चल सकता है ।

विज्ञापन

 मौके पर उपस्थित राजद जिलाध्यक्ष जयकांत यादव ने कहा कि जिले में इस तरह की घटनाएं आम बात हो गई है । राजद परिवार मृतक परिवार वालों के प्रति संवेदना व्यक्त करता है । उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल जिला पुलिस प्रशासन से इस घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग करता है । उन्होंने कहा कि जिले में अपराधियों के बीच पुलिस का भय समाप्त हो चुका है । पुलिस व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गई है । आए दिन घटना को अंजाम दिया जाता है और पुलिस प्रशासन मौन रहती है । अपराधी बेखौफ हो चुके हैं । लगभग दो घंटे तक सड़क जाम रहने से आम लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा, क्योंकि शुक्रवार को जिले के सिंहेश्वर प्रखंड में महाशिवरात्रि को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ तथा मैट्रिक परीक्षा को लेकर परीक्षार्थियों की भीड़ थी, जिसके कारण श्रद्धालुओं एवं परीक्षार्थियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा ।

विज्ञापन

गिरफ्तारी के लिए की जा रही है छानबीन तथा छापेमारी : इस बाबत सदर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिंह ने बताया कि लोगों से जानकारी मिली थी कि संतलाल यमुना महाविद्यालय के पीछे एक व्यक्ति का शव है । जिसके बाद पुलिस प्रशासन की टीम वहां पहुंचकर आशीष राजा के शव को अपने कब्जे में लिया गयाा है । शव को देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि अपराधियों ने आशीष राजा को पीछे से तीन-चार गोली मारी है । क्योंकि उनके सर एवं शरीर के पिछले भाग में गोलियों के निशान हैं । सही जानकारी पोस्टमार्टम के बाद ही मिल पाएगी । घटना की पूरी जानकारी ली जा रही है । घटना कब और कहां हुई है इसकी पूरी जानकारी ली जा रही है,  घरवालों से भी की जा रही है, घरवाले अभी बातचीत की स्थिति में नहीं है । उन्होंने बताया कि मृतक आशीष राजा की भी आपराधिक पृष्ठभूमि रही है, इसलिए गैंगवार की भी आशय जताई जा रही है । हालांकि मामले की छानबीन के बाद ही सही निर्णय लिया जा सकता है । थानाध्यक्ष ने कहा कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छानबीन तथा छापेमारी जा रही ही ।


Spread the news