मधेपुरा : कोसी हॉस्पिटल में धूमधाम से मनाया गया 71 वां गणतंत्र दिवस

728x90
Spread the news

संवाददाता राकेश रंजन उर्फ रूपेश की रिपोर्ट : 

मधेपुरा/बिहार : जिला मुख्यालय स्थित कोशी हॉस्पिटल मे 26 जनवरी  यानी गणतंत्र दिवस के अवसर पर कोशी हॉस्पिटल मधेपुरा में धूमधाम से झंडा तोलन का आयोजन किया गया, जहां डॉक्टर राज किशोर सिंह ने झंडा तोलन कर , तिरंगे को सलामी दी।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कोशी हॉस्पिटल के संस्थापक कुमार आशीष ने कहा कि  26 जनवरी का दिन भारतीय लोकतंत्र और हर भारतीय के लिए काफी खास दिन है। उन्होंने कहा कि यही व दिन है जब भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी।

इसी वजह से हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस  के रुप में मनाया जाता है। आज के समय में भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। आज हम देश की आजादी की 71 वां वर्षगांठ मना रहे हैं।

विज्ञापन

26 जनवरी 1947 को जो हमें आजादी मिली थी। वह आसानी से नहीं मिली । इसके लिए हमें बड़ी कुर्बानी देनी पड़ी है और लंबा संघर्ष करना पड़ा। महात्मा गांधी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, बाल गंगाधर तिलक, मंगल पांडे, हैदर अली, टीपू सुल्तान, बहादुर शाह जफर, पंडित जवाहरलाल नेहरू, चंद्र शेखर आजाद और भगत सिंह जैसे हजारों महानायक, जिन्होंने  आजादी दिलाने में  अपना बलिदान  दिया। तब जाकर हम आजाद हुए, देश की आजादी के लिए स्वतंत्रता सेनानियों ने खूब मेहनत की। उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ने में दिन-रात एक कर के उन्होंने अपने आराम और जीवन के सारे सुख त्याग दिए, इस आजादी की लड़ाई में हर धर्म, जाति, रंग और नस्ल के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है, तभी हम लोगों को आजादी मिली है और इस दिन ही हमारे देश को अपना संविधान मिला था।

उन्होंने कहा कि 26 जनवरी 1950 को सुबह 10 बजकर 18 मिनट पर भारत का संविधान लागू किया गया था। संविधान लागू होने के बाद हमारा देश भारत एक गणतंत्र देश बन गया। इस के 6 मिनट बाद 10 बजकर 24 मिनट पर राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी। इस दिन पहली बार बतौर राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद बग्गी पर बैठकर राष्ट्रपति भवन से निकले थे। यह संविधान ही है, जो भारत के सभी जाति और वर्ग के लोगों ने एक दूसरे से जुड़े रखता है। भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित है।यह  संविधान  2 साल, 11 महीने और 18 दिन में  तैयार किया गया था।

संविधान को लागू करने के लिए 26 जनवरी का दिन इसलिए चुना गया, क्योंकि 1930 में इसी दिन कांग्रेस के अधिवेशन में भारत को पूर्ण स्वराज की घोषणा की गई थी।

विज्ञापन

 वही मौके पर छात्र (राजद) नेता चेतन आनंद ने कहा कि आजादी मिलने और संविधान लागू होने के इतने बरसों बाद भी आज भारत अपराध, भ्रष्टाचार, हिंसा, नक्सलवाद, आतंकवाद, गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा जैसी समस्याओं से लड़ रहा है। हम सभी को एक होकर इन समस्याओं को खत्म करने की कोशिश करनी चाहिए। भारत को जब तक इस समस्याओं से बाहर नहीं निकालते है,तब तक स्वतंत्रता सेनानियों का सपना पूरा नहीं होगा। इसके लिए हम सभी  को एक होकर प्रयास करने से श्रेष्ठ और विकसित भारत का निर्माण होगा।

मौके पर डॉक्टर राजेश कुमार,  डॉक्टर अमित कुमार, डॉक्टर रवीन्द्र कुमार, डॉक्टर ठाकुर प्रसाद ,डॉक्टर नीरज कुमार , मनोज कुमार सहित अन्य मौजूद थे।


Spread the news