मधेपुरा : सिंहेश्वर महोत्सव को तीन से दो दिवसीय करने  पर कलाकारों में रोष, बैठक कर जताया ऐतराज

Spread the news

– महोत्सव के दो दिवसीय होने से महोत्सव हो जाएगा महत्वहीन 

– महोत्सव में अगर किसी एक खेल का आयोजन हो तो अन्य खेलों को भी जोड़ा जाए  

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : राजकीय सिंघेश्वर महोत्सव को तीन दिवसीय के बजाय दो दिवसीय करने पर जिले के कई सांस्कृतिक संगठनों ने ऐतराज जताया है ।  जिला मुख्यालय के रासबिहारी मैदान पर कई सांस्कृतिक संगठनों की संयुक्त बैठक आयोजित की गई ।

 बैठक में एक स्वर में कलाकारों ने सिंहेश्वर महोत्सव को तीन दिवसीय करने की मांग की । कलाकारों ने कहा कि तीन दिवसीय महोत्सव में जब स्थानीय कलाकारों को पूरी सहभागिता नहीं मिल पाती है, ऐसे में दो दिवसीय महोत्सव का क्या औचित्य रहेगा. कलाकारों ने एक स्वर में मांग किया कि जब महोत्सव में राष्ट्रीय कलाकारों की भागीदारी की बात हो तो इस धरती के उन कलाकारों को भी मौका मिले जो यहां से निकल कर राष्ट्रीय मंच पर स्थापित हैं । साथ ही राष्ट्रीय कलाकारों के लिए टेंडर भी निकाला जाए । स्थानीय कलाकारों की मजबूत भागीदारी हो, साथ ही आयोजन स्थल पर ही उनको प्रमाण पत्र एवं भत्ता उपलब्ध कराया जाय । स्थानीय नवोदित एवं स्थापित कलाकारों के भागीदारी का आधार जिला स्तर के आयोजनो का प्रमाण पत्र बनें । वहीं कलाकारों ने मजबूती के साथ मांग किया कि  स्थानीय कलाकारों पर कुल बजट का 40 प्रतिशत खर्च किया जाय । इसके साथ अगर महोत्सव में किसी एक खेल का आयोजन हो तो अन्य खेलों का भी आयोजन हो ।

बैठक में मौजूद सभी कलाकारों ने कहा कि इस मुद्दे को लेकर मंगलवार को एक शिष्टमंडल डीडीसी से मिलकर मांगपत्र सौंपेगा । बैठक में प्रांगण रंगमंच के सुनित साना, दिलखुश कुमार, नवाचार रंगमंडल के अमित कुमार अंशु, अंकित वत्स, मो आतिफ, सुमित कुमार, हिपहॉप डांस एकेडमी के कार्तिक कुमार, अभिनास कुमार, कला संस्कृति संगम के पृथ्वीराज यदुवंशी, शिव राजेश्वरी युवा सृजन क्लब के हर्ष वर्धन सिंह राठौर सहित युवा समाजसेवी अक्षय कुमार, मिराज आलम आदि मौजूद थे ।


Spread the news
advertise