मधेपुरा : शिक्षा के क्षेत्र में नवाचार महत्वपूर्ण- कृष्ण गोपाल

Spread the news

आरिफ आलम
वरीय संवाददाता,
चौसा, मधेपुरा

चौसा/मधेपुरा/बिहार : परिवर्तन ही संसार का नियम है । समय के साथ बदलाव और कार्यों में समग्रता का समावेश जरूरी है । इसी उद्देश्य से प्रत्येक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जाता है । लिहाजा शिक्षकों को पूरी गंभीरता से प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहिए ।

    उक्त बातें अंचल प्राथमिक शिक्षक संघ के सचिव सह प्रधानाध्यापक कृष्ण गोपाल पासवान ने कही । वे आज  शुक्रवार को प्रखंड संसाधन केन्द्र चौसा में आयोजित निष्ठा प्रशिक्षण के द्वितीय चरण के उद्घाटन सत्र में बोल रहे थे । श्री पासवान ने उक्त प्रशिक्षण का  दीप प्रज्वलित कर उद्घाटन करने बाद कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में नवाचार महत्वपूर्ण होता है । विज्ञान और तकनीक में बदलाव के साथ नवाचार हमारे वृतिगत कौशल के लिए जरूरी है ।

      वरीय बीआरपी रामप्रकाश कुमार रेणु की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रशिक्षक शिवनाथ झा ने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में ”निष्ठा मोबाइल एप” का उपयोग अनिवार्य है। प्री और पोस्ट टेस्ट मोबाइल ऍप पर ऑनलाइन ही होंगे। ‘निष्ठा मोबाइल एप’ में समस्त ”प्रशिक्षण मॉड्यूल’ पाठ्यक्रम सामग्री’, प्रशिक्षण गतिविधियाँ, वेबसाइट ट्यूटोरियल आदि संसाधन ऑनलाइन उपलब्ध है तथा इस एप के जरिये निष्ठा व अन्य वेबसाइट जैसे ईपाठशाला, NROER आदि को एक्सेस किया जा सकता है। प्रशिक्षक चतुर्भुज कुमार ने  कहा कि कहा कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने प्राथमिक स्तर पर ही शिक्षा को सशक्त बनाने के लिए निष्ठा कार्यक्रम की शुरुआत की है। इसके तहत छात्रों में महत्वपूर्ण सोच को प्रोत्साहित करने के लिए शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा।

विज्ञापन

सनद रहे कि निष्ठा प्रशिक्षण का द्वितीय चरण 27 दिसम्ब से 31 दिसंबर 2019 तक आयोजित किया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान राज्य परियोजना परिषद प्रतिनिधि रवि शेखर शर्मा और जिला समन्वयक मनोज कुमार  के द्वारा आज ही निष्ठा प्रशिक्षण का निरीक्षण भी  किया गया।

      मौके पर समन्वयक विजय कुमार, बीआरपी अनिल कुमार, प्रधानाध्यापक इम्तियाज आलम, उमर फारूक, शाहनवाज, पुरूषोत्तम कुमार, शिक्षक यहिया सिद्दीकी , सुभाष पासवान, सत्यप्रकाश भारती , प्रणव कुमार, आफताब, शारिक अनवर, सआदत हसन, साकिब नैयर, बिरबल पासवान,  राजीव अग्रवाल,  भालचंद्र मंडल, सत्यनारायण, शिक्षिका नुजहत परवीन, रीणा कुमारी, खुश्बू नाज, रेणु कुमारी  सहित 150 की संख्या में शिक्षक एवं शिक्षिकाएं उपस्थित थे ।


Spread the news
advertise