मधेपुरा : इस्लाह-ए-मआशरा: कान्फ्रेंस की तैयारी जोरों पर, देश प्रदेश के उलमा-ए-कराम करेंगे शिरकत

728x90
Spread the news

कौनैन बशीर
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : जिले के उदाकिशुनगंज प्रखंड के सिंगारपुर गांव में सर्वधर्म सम्प्रदाय के लोगों का समाज में साम्प्रदायिक सौहार्द कायम करने एवं धर्म के प्रति आपसी संबंध मजबूत किए जाने को लेकर शनिवार को इस्लाह-ए-मआशरा: कान्फ्रेंस (जलसा) का आयोजन किया गया है। इसका आयोजन सिंगारपुर गांव के नौजवाने कमिटी के तत्वावधान में किया गया है। तालिमी बेदारी सह सामाजिक एकता के उदेश्य से आयोजित एक दिवसीय जलसा को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी है।

आध्यात्मिक प्रेरणा से ओत-प्रोत इस जलसे में मुख्य अतिथि के रूप में इलाहबाद से मौलाना व कारी जनाब शरीफ अहमद साहब,मौलाना व मुफ्ती जनाब अशरफ असाती समस्तीपुर बिहार, हजरत मौलाना असरफ नुरुल्लाह नदवी साहब बिहार, हजरत मौलाना जनाब महबूब मुजाहरी साहब। आसमान खिताबत हजरत मौलाना जावेद साहब मदनी, नाते शरीफ हाफिज व कारी फैयाज अनवर फैजी साहब, हाफिज मोहम्मद मनाक़िब साहब, हजरत हाफिज मासूम साहब, हाफिज व कारी मोहम्मद इजराइल साहब, खतीब ए मिल्लत जनाब मौलाना इस्माइल साहब, खिताबत ए इमाम हाफिज उमर फारुख साहब सहित अन्य उलमा-ए-कराम पधारेंगे।
इस बात की जानकारी देते हुए नौजवाने कमिटी व कॉन्फ्रेंस के सदर मुखिया अब्दुल अहद ने बताया कि सभी धर्म के लोगों को इस जलसा में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है ताकि समाज में धर्म के प्रति आपसी सहयोग एवं सद्भाव बरकरार रहे।  

वही उन्होंने यह भी कहा कि जलसा का मुख्य उद्देश्य औरतों के अंदर दिने इस्लामी का पूर्ण रूप से जज्बा पैदा करवाना है। उन्होंने कहा कि औरत की गोद बच्चों की पहली पाठशाला है, महिलाओं के अंदर जितनी शिक्षा एवं दिनी तालिम होगी वह परिवार उतना ही शिक्षित व खुशहाल बनेगा। उन्होंने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने में हमेशा से ही महिलाओं की बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने बताया कि जलसा कि तैयारी पूरी कर ली गई है। आये हुए हाजरिनों के लिए विशेष रूप से इंतजाम किए गए हैं। इस्लाह-ए-मआशराह: कान्फ्रेंस में सिंगारपुर नौजवाने कमिटी के मोहम्मद फैयाज आलम, मोहम्मद यासीन, साहब, सैफुल्लाह खालिद, मोहम्मद औरंगजेब आलम, जहूर आलम, महबूब आलम, मोहम्मद समसुल, मोहम्मद इसराफिल, मोहम्मद अनवारुल, मोहम्मद मतीन, अब्दुल कय्यूम, मास्टर मोहम्मद अब्दुल कुद्दुश, मोहम्मद ओरंजेब, मौलवी मोहम्मद इस्लाम साह, हाफिज अब्दुल वाहिद, मोहम्मद मंजूर आलम, मोहम्मद अबू तालिब, मोहम्मद अजमल, मोहम्मद इरशाद आदि का कान्फ्रेंस को सफल बनाने के लिए आयोजन स्थल पर सक्रिय रूप से देखा जा रहा है। 


Spread the news