दरभंगा : दरभंगा और समस्तीपुर लोकसभा में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान हुआ सम्पन्न, मतदाताओं ने कहा थैंक्स डीएम साहेब

728x90
Spread the news

ज़ाहिद  अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : दरभंगा लोकसभा का मतदान मिलाजुला कर शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हुआ जिसका पूरा श्रेय दरभंगा के जिलाप्रशासन सहित आम जनता को जाता है। मतदान के दौरान भीषण गर्मी के कारण कई क्षेत्रों से मतदाताओं के बेहोश होने की सूचना है। कुछ विशेष मतदान केन्द्रों को छोड़कर अधिकांश केन्द्रों पर भीषण गर्मी में भी ही मतदाताओं को कतारवद्ध होकर मतदान किया।

पेयजल की सुविधा भी अधिकांश मतदान केन्द्रों पर नदारद ही थी जिस कारण गर्मी में छूट रहे पसीनों के बीच लोग पानी के लिए तरस रहे थे। शहरी क्षेत्र में तो प्राय: छोटे से बड़ी सभी दुकानें बंद थी। चाय पान की दुकान बंद रहने के कारण लोगों को परेशानी हो रही थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दरभंगा विधानसभा क्षेत्र के कबीरचक गांव स्थित 61 नम्बर बुथ पर मतदान करने जा रहे 70 वर्षीय रीतलाल राय की मौत मतदान केन्द्र पहुंचने से पहले ही हो गई। घर के लोगों ने बताया कि वह खाना खाकर मतदान के लिए निकले, लेकिन रास्ते में ही उनकी तबियत खराब हो गई और उन्हें उठाकर जब तक घर लाया जाता और उपचार की व्यवस्था की जाती उनकी मौत हो गई। वहीं कई मतदान केन्द्रों पर लाइन में खड़े बेहोश लोगों को स्थानीय लोगों की सहायता से बचाया गया। इस क्रम में मतदान कर्मियों के भी बेहोश होने की जानकारी है।

कुल मिलाकर भीषण गर्मी के बीच हुए मतदान में लोगों को पसीने से तर-बतर देखा गया। वहीं समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र के कुशेश्वरस्थान में नाव पर सवार होकर मतदाताओं ने मतदान केन्द्र पर पहुंच कर मतदान किया। कई जगहों पर मतदान केन्द्र दूर रहने के बावजूद भी मतदाताओं को केन्द्रों तक जाते हुए देखा गया। दरभंगा संसदीय क्षेत्र में अब तक मिले आंकड़ों के अनुसार मतदान का प्रतिशत 57 प्रतिशत रहा। पिछले लोकसभा चुनाव में मतदान का प्रतिशत 55 प्रतिशत था। मतदान में पहली बार वोट कर रहे कई मतदाताओं और वृद्धि मतदाताओं में भी उत्साह देखा गया।
 जिलाधिकारी सहित कई राजनेताओं ने लोकतांत्रिक अधिकार का उपयोग करते हुए मतदान किया

जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एस एम ने अपने लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल करते हुए आदर्श मध्य विद्यालय लहेरियासराय में पत्नी के संग मतदान किया। सबसे बड़ी बात रही कि उन्होंने पंक्तिवद्ध होकर मतदान का उपयोग किया।

वहीं गौड़ा-बौराम विधानसभा क्षेत्र के मतदान संख्या 44, संस्कृत मध्य विद्यालय पररी में भाजपा प्रत्याशी गोपालजी ठाकुर ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं अलीनगर विधानसभा क्षेत्र के रूपसपुर में राजद प्रत्याशी अब्दुलबारी सिद्दिकी ने मतदान किया। बहादुरपुर विधानसभा अंतर्गत बांकीपुर बुथ पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री मो.अली अशरफ फातमी ने मतदान किया। दरभंगा विधानसभा क्षेत्र में मतदान संख्या 151 पर भाजपा विधायक संजय सरावगी ने अपने मताधिकार का उपयोग किया तो बंगलागढ़ स्थित मतदान केन्द्र पर महापौर वैजंती देवी खेड़िया ने मताधिकार का प्रयोग किया। स्वीप आइकॉन मणिकांत झा ने भी अपने मताधिकार का उपयोग किया।
विदेशी प्रतिनिधियों ने मतदान केन्द्रों पर लिया चुनाव का जायजा, जिलाप्रशासन की व्यवस्थाओं को सराहा

लोकसभा आम निर्वाचन- 2019 के अवसर पर आज इंडिया फाउन्डेशन के गुरू प्रकाश एवं श्रेया कुमारी के समन्वय से रूस, वियतनाम, ईरान एवं अफगानिस्तान के प्रतिनिधि मंडल आए। जिन्हें दरभंगा में भारत की लोकतांत्रिक शक्ति से परिचय कराया गया। ये सभी 14-दरभंगा संसदीय निर्वाचन क्षेत्र के 83-दरभंगा विधानसभा क्षेत्र के बुथ संख्या – 84-महिला मतदान केन्द्र एवं 85- दिव्यांग मतदान केन्द्र पर विभिन्न विषय पर पर्यवेक्षण कर रहे थे। इन सभी को भारत के लोकतंत्र का परिचय कराया गया। ये विभिन्न दलों के उम्मीदवार से मिले तथा उनके प्रक्रिया का पर्यवेक्षण किया।

इस शिष्ट मंडल द्वारा बताया गया कि भारत के लोकतांत्रिक शक्ति एवं इसकी एकजुटता के विषय में अपने देश के प्रतिनिधि मंडल को विस्तार से व्याख्या करेंगे एवं वे अपने देश में भी इस तरह की प्रक्रिया को अपनाएगे। बिहार के दरभंगा में वे मतदान केन्द्र संख्या- 84(महिला मतदान केन्द्र एवं मतदान केन्द्र संख्या – 85 (दिव्यांग मतदान केन्द्र) का पर्यवेक्षण किया। मतदान केन्द्र संख्या – 84 राजकीय पोलिटेकनिक कॉलेज, कादिराबाद, दरभंगा को वंसुधरा मतदान केन्द्र के रूप में तैयार किया गया। इस मतदान केन्द्र पर सभी मतदान कर्मी महिलाएं हैं। सभी मतदान कर्मी ड्रेस कोड टी-शर्ट, कैप, रिबन में हैं, जिस पर पर्यावरण संरक्षण के संदेश मुद्रित है। मतदान केन्द्र परिसर में पर्यावरण संरक्षण से संबंधित संदेश को प्रसारित करने हेतु पोस्टर बैनर लगाया गया है। ठोस एवं गीला कचड़ा के प्रबंधन के बारे में भी जानकारियाँ वहां उपलब्ध कराया गया है। मतदान केन्द्र पर आने के लिए ई-रिक्शा का उपयोग गया है। मतदान सामग्री हेतु जूट से बने थैले का उपयोग किया गया है। इस मतदान केन्द्र पर प्लास्टिक का कोई पदार्थ का उपयोग नहीं किया गया है।

इस अवसर पर जिला प्रशासन, दरभंगा द्वारा प्रथम 05 मतदाताओं को प्रशस्ति-पत्र, जूट का बैग एवं एक-एक पौधा उपहार स्वरूप भेंट कर आमजनों में पृथ्वी को बनाए रखने का संदेश दिया गया। वहीं मतदान केन्द्र संख्या – 85 (दिव्यांग मतदान केन्द्र) राजकीय पोलिटेकनिक कॉलेज, कादिराबाद, दरभंगा में मतदान संचालन कार्य दिव्यांग पदाधिकारी एवं कर्मी द्वारा किया गया। विदेशी डेलिगेट्स इन सभी प्रक्रिया से बहुत ही प्रभावित हुए। उनका अनुभव सकारात्मक रहा। इस अवसर पर जिला प्रशासन के प्रतिनिधि के रूप में नोडल पदाधिकारी स्वीप कोषांग-सह-जिला सांख्यिकी पदाधिकारी संध्या सुरभि उपस्थित रही।
गर्मी के कारण तीन मतदान कर्मी हुए बेहोश, केंद्रों पर पंखे की व्यवस्था नही होने का लगा आरोप

दरभंगा संसदीय क्षेत्र में भले ही चुनाव शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हुआ लेकिन भीषण गर्मी के कारण तीन मतदान कर्मी बेहोश हो गये जिन्हें ईलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया। वहीं कई मतदाता के भी बेहोश होने की खबर मिली है।

मनीगाछी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत नारायणपुर मध्य विद्यालय में एक मतदान अधिकारी की तबीयत गर्मी के कारण खराब हो गई। चूंकि यह आदर्श मतदान केन्द्र था जिसके चलते चिकित्सीय व्यवस्था उपलब्ध थी। मौजूद व्यवस्था के तहत प्राथमिकी उपचार के बाद उन्हें बेहतर ईलाज के लिए रेफर कर दिया गया। वहीं बेनीपुर विधानसभा क्षेत्र के सजनपुरा गांव में मतदान केन्द्र संख्या 172 पर पी-2 केटोगरी की तबीयत बिगड़ गई। उन्हें ईलाज के लिए भेजा गया और उनके जगह परवेज आलम को चुनाव कार्य में लगाया गया।

इसी तरह दरभंगा शहर के मतदान केन्द्र संख्या 179 पर मतदान पदाधिकारी 1 बेहोश होकर गिर पड़े। वहां तैनात मतदान कर्मियों एवं पुलिस के जवानों ने प्राथमिक ईलाज करवाया। जिसके बाद उन्हें एम्बुलेंस से बेहतर ईलाज के लिए ले गया। बीमार कर्मी नरेश कुमार झा बहेड़ा के रहने वाले थे। कुल मिलाकर ये शिकायत कई मतदान केंद्रों पर मिली कि कर्मियों के लिए पंखे की समुचित व्यवस्था नही पाई गई।
कड़ी सुरक्षा के बीच और चिलचिलाती धूप में बड़ी उत्साह से लोगो ने किया अपना मतदान

दरभंगा लोकसभा चुनाव का आज चौथा चरण का चुनाव कड़ी सुरक्षा और शान्तिपूर्वक ढंग से सम्पन्न हुआ। मनीगाछी प्रखण्ड के 22 (बाईस) पंचायतों में कुल 156 बूथों पर उम्मीदवारो का भाग्य ईवीएम में बंद हो गया। दिन भर अफवाहों का बाजार पूरी तरह गर्म रहा।अफवाहों के कारण कहीं कहीं अफरातफरी का माहौल बना रहा। ज्यादातर बूथों पर कड़ी धूप से बचने का कोई इंतजाम नहीं था।

इस चिलचिलाती धूप एव भीषण गर्मी के बीच बूथों पर मतदाताओं का गजब का उत्साह देखने को मिला। बूथ संख्या156 पर छुट्टी प्राप्त शिक्षक शिव चंद्र झा माता के निधन के बाद गला में उतरी लेकर के लाइन में लगे हुए थे। वहीं भंडारिसम पंचायत के गंज में बूथ संख्या 190 पर मशीन खराब रहने से मतदान दो घंटे विलम्ब से शुरू हुआ। बूथ संख्या 257, 171 मे ईभीएम मशीन खराब रहने के कारण दस बजकर चालीस मिनट पर मतदान शुरू होने से मतदाताओं में नाराजगी देखा गया। बघांत बूथ संख्या 246 पर बिहार के पूर्व मंत्री एव कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने अपना मतदान किया। जगदीशपुर चक्का के बूथ संख्या 199 और 200 पर एक दल के पक्ष में फर्जी तरीके से मतदान की अपवाह पर दोनों पक्षों में तानातनी के मद्देनजर प्रशासन हरकत में आने के बाद यह सच सामने आया कि यह एक महज अफ़वाह था।

वहीं बूथ संख्या 181 पर 97 वर्षीय गीता देवी अपने मताधिकार का प्रयोग की। सुरक्षा का कड़ा इंतजाम किया गया था कहीं चूक न हो इसका पुरा ख्याल रखा गया। वहीं अन्य वाहनों का परिचालन सामान्य रूप से चल रहा। थानाध्यक्ष रंजीत कुमार के नेतृत्व में पुरे दिन किसी भी बूथों पर किसी भी प्रकार की परेशानी एवं शिकायत की सूचना पर तत्वरित एक्शन लिया जाता था।कुल 156 बूथ पर कुल 01 लाख 62 हजार 2 सौ 43 मतदाता जिसमें पुरुष मतदाताओ की संख्या 41 हजार 05 सौ 25 एवं महिला मतदाताओं की संख्या 45 हजार 06 सौ 50 है। मतदान समाप्त होने तक 53.44 प्रतिशत हुआ।
मतदान समाप्त होते ही समर्थकों द्वारा कयासों का दौर जारी, भितरघात परिणामो को कर सकता है प्रभावित!

दरभंगा/समस्तीपुर : मतदान समाप्ति के बाद राजद और भाजपा के दोनों खेमों में हार जीत को लेकर कयासों का दौर शुरू हो गया है। प्रत्याशी समर्थक और कार्यकर्ताओं से आंकड़ा लेने में जुटे हुए हैं। जीत के दावे दोनों की ओर से की जा रही है लेकिन इस बार के चुनाव के परिणाम चौंकाने होंगे। जीत का दावा अपनी जगह है लेकिन भितरघात हार का सबसे बड़ा कारण बन सकता है। सूत्रों की बात माने तो एनडीए के दो विधायक द्वारा महागठबंधन के प्रत्याशी को गोपनीय ढंग से मदद की गई है जिससे परिणाम विपरीत भी आ सकते है!

उधर पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री मो.अली अशरफ फातमी के बारे में ये कयास लगाया जा रहा था कि टिकट कटने से नाराज़ होकर वो भी महागठबंधन में भितरघात कर सकते है लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने ऐसा नही किया। जिससे महागठबंधन के वोटरों में एक सकारात्मक संदेश गया है। समस्तीपुर लोकसभा की स्थित कमो बेश ऐसे ही सुनने को मिल रही है अर्थात भितरघात वहाँ भी हो सकता है कि हुआ होगा। बहादुरपुर विधानसभा के मुखिया ज़ीशान फ़ारूक़ी आज अपनी पत्नी के साथ मतदान करने बूथ पर पहुँचे। हमारे संवाददाता से बात करते हुए उन्होंने भी महागठबंधन के उम्मीदवार के जीत का दावा किया है।

बहरहाल मतदान का परिणाम तो 23 मई को आएगा लेकिन प्रत्याशी के साथ साथ समर्थकों की बेचैनी अभी से ही बढ़ गई है।


Spread the news