मधेपुरा : सी-विजिल ऐप लोड नहीं करने वाले लापरवाह पदाधिकारियों पर गिरी गाज, जाने क्या है सी-विजिल ऐप

728x90
Spread the news

टीआरटी डेस्क

मधेपुरा/बिहार : जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बावजूद अब तक cvigil Investigator App लोड नहीं करने वाले लापरवाह पदाधिकारियों पर सख्त कारवाई का निर्देश आज जारी किया गया है। वैसे तमाम लापरवाह पदाधिकारियों से स्पष्टीकरण पूछने के साथ-साथ फिलहाल मार्च के वेतन पर रोक लगा दी गई है।

उक्त कारवाई की जानकारी आज जिला जन संपर्क पदाधिकारी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर दिया है। प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी मधेपुरा के प्रतिवेदन, जिसमें उन्होंने बहुत से पदाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी द्वारा cvigil Investigator App फोन में इंस्टॉल नहीं करने का जिक्र किया है। जबकि इस संबंध में दिनांक 12:03 2019 एवं 13 3 2019 को आयोजित बैठक में जिलाधिकारी मधेपुरा एवं पुलिस अधीक्षक मधेपुरा द्वारा अविलंब अपने अपने एंड्राइड मोबाइल में संबंधित एप इंस्टॉल करने हेतु निर्देश दिया गया था।

उक्त निर्देश आलोक में जिलाधिकारी द्वारा वैसे लापरवाह पदाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारी से कारण पृच्छा कर नियमानुसार अग्रसर कार्रवाई करने हेतु संबंधित सहायक निर्वाची पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया गया है। साथ ही वैसे पदाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी का मार्च माह का वेतन निकासी संबंधित सहायक निर्वाचित पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक मधेपुरा द्वारा इस आशय का प्रमाण पत्र निर्गत किए जाने के बाद ही होगा ।

क्या है cvigil Investigator App:

  • स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने जारी किया है सी-विजिल ऐप

  • आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की ऐप से मिलेगी सूचना

  • 100 मिनट के अंदर होगा शिकायत का निराकरण

  • पहली बार चुनाव में सी-विजिल ऐप का होगा इस्तेमाल

  लोकसभा चुनाव में स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित कराने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मोबाइल ऐप सी-विजिल लॉन्च किया गया है। आदर्श अचार संहिता कोषांग में प्रतिनियुक्त कर्मियों को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों की जानकारी कोई भी व्यक्ति इस ऐप के माध्यम से दे सकेगा और फ्लाइंग स्क्वॉड टीम (एफएसटी) में शामिल कर्मी इसकी रिपोर्टिंग आरओ को करेंगे।

फ्लाइंग स्क्वॉड टीम को इन्वेस्टिगेटर ऐप डाउनलोड करना होगा

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लॉन्च मोबाइल ऐप सी-विजिल में सिटीजन और इंवेस्टिगेटर दो तरह के ऐप डाउनलोड किये जा सकते हैं। फ्लाइंग स्क्वॉड टीम (एफएसटी) में शामिल कर्मी https://eci.gov.in/cvigil लिंक पर जाकर इन्वेस्टिगेटर ऐप डाउनलोड कर सकते हैं।

रंगों के आधार पर मामलों की जानकारी

सी-विजिल के इन्वेस्टिगेटर ऐप में रंगों के आधार पर मामलों का वर्गीकरण किया गया है। इस ऐप में नीले रंग के जरिये नये मामलों की जानकारी मिलती है, जबकि बैंगनी (परपल) रंग स्वीकार किये मामलों की जानकारी देता है। लाल रंग के जरिये ओवर ड्यू मामलों की जानकारी मिलेगी। फ्लाइंग स्क्वॉड टीम (एफएसटी) के सदस्य के पास ऐप के जरिये संज्ञान में आये मामलों के निराकरण और अस्वीकार किये जाने का विकल्प होगा।

10 मिनट में मौके पर पहुंचेगी एफएसटी

 आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की सी-विजिल ऐप के जरिये किसी नागरिक द्वारा जानकारी दिये जाने के बाद एफएसटी मौके पर पहुंचेगी। मामला संज्ञान में आने के बाद 100 मिनट में इसका निराकरण करना होगा। शिकायत दर्ज होने के बाद सूचना जिला नियंत्रण कक्ष के पास जायेगी, फिर इसे फील्ड इकाई को दिया जायेगा। 10 मिनट में एफएसटी के सदस्य को मौके पर पहुंचकर इसकी रिपोर्ट करनी होगी। निकटतम एफएसटी को ही मामले असाइन किये जायेंगे, ताकि जल्द से जल्द इसकी रिपोर्टिंग हो सके।


Spread the news