नालंदा : कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम को लेकर जिला पदाधिकारी ने की विभिन्न कोषांगों की बैठक

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

नालंदा/बिहार : जिला पदाधिकारी योगेंद्र सिंह के  नेतृत्व में कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए सभी कोषांग के नोडल पदाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की। सैं

पलिंग कोषांग के नोडल पदाधिकारी, भूमि सुधार, उप समाहर्ता बिहार शरीफ को प्रतिदिन निर्धारित लक्ष्य के अनुसार जांच सैंपल कलेक्ट कराने तथा जांच का रिपोर्ट प्राप्त होने से संबंधित व्यवस्था का अनुश्रवण करने को कहा गया। इस कोषांग द्वारा प्रतिदिन सैंपल कलेक्शन एवं जांच रिपोर्ट के आधार पर पॉजिटिव पाए गए लोगों की सूची विभिन्न कोषांग के पदाधिकारियों के साथ साझा किया जा रहा है। सैंपलिंग के समय ही लोगों से उनके होम आइसोलेशन में रहने से संबंधित सहमति पत्र प्राप्त करने हेतु कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा गया। सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में रैपिड एंटीजन टेस्ट की व्यवस्था की गई है, इसका सतत अनुश्रवण करने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया ।

 इन केंद्रों पर निर्धारित गाइडलाइन के अनुसार कोविड-19 संक्रमण के लक्षण वाले लोग, पॉजिटिव पाए गए लोगों के निकटतम हाई रिस्क कॉन्टैक्ट एवं कंटेनमेंट जोन में रहने वाले भेद्य श्रेणी के लोगों की स्वेच्छा से जांच की जा रही है।

 सिविल सर्जन द्वारा स्पष्ट रूप से बताया गया कि जांच में एक बार निगेटिव पाए जाने के बाद लोग पुनः पॉजिटिव नहीं हो सकते हैं, ऐसी अवधारणा बिल्कुल ही गलत है। इसलिए जांच में निगेटिव पाए जाने वाले लोगों को भी उतनी ही सतर्कता बरतने की आवश्यकता है, जितनी अन्य लोगों को है।

 प्रतिदिन पॉजिटिव पाए जाने वाले लोगों की ट्रैकिंग आइसोलेशन कोषांग के माध्यम से से की जा रही है। जो लोग संस्थागत आइसोलेशन में रहना चाहते हैं, उन्हें वहां भेजा जा रहा है तथा जो लोग होम आइसोलेशन में रहना चाहते हैं उन्हें सहमति पत्र के आधार पर होम आइसोलेशन में रहने की अनुमति दी जा रही है। होम आइसोलेशन में रहने वाले सभी लोगों को एक मेडिकल किट उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसमें पेरासिटामोल, मल्टीविटामिन सहित अन्य आवश्यक दवाएं, मास्क आदि शामिल हैं। पर्याप्त संख्या में किट तैयार कराने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया।

होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों की नियमित काउंसलिंग दूरभाष के माध्यम से सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया। इस कार्य में कुछ इच्छुक वॉलिंटियर्स को भी लगाया जा रहा है, जो उपलब्ध सूची के आधार पर होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों से प्रतिदिन दूरभाष से बात कर उनकी स्थिति के बारे में फीडबैक लेंगे तथा आवश्यकता अनुसार उचित परामर्श भी देंगे। ट्रैकिंग कोषांग के माध्यम से प्रतिदिन पॉजिटिव पाए गए लोगों के हाई रिस्क कांटेक्ट की जानकारी लेकर उनकी जांच हेतु सैंपलिंग कोषांग को सूची उपलब्ध कराई जा रही है, जिसके आधार पर सैंपलिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

 कंटेनमेंट जोन कोषांग के प्रभारी को प्रतिदिन कंटेनमेंट जोन से संबंधित जानकारी प्रखंड वार प्राप्त करने का निर्देश दिया गया। कंटेनमेंट जोन में सैनिटाइजेशन स्थानीय निकाय के माध्यम से सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया। सभी अनुमंडल पदाधिकारियों को उनके क्षेत्र में प्रतिदिन  सैंपलिंग, पॉजिटिव मामले,  कंटेनमेंट जोन,  होम आइसोलेशन  तथा संस्थागत आइसोलेशन के स्थिति की समीक्षा सुनिश्चित करने को कहा गया। कॉल सेंटर कोषांग के प्रभारी अनुमंडल लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी बिहार शरीफ को सदर अस्पताल के मेडिकल हेल्पलाइन(06112 236794) एवं जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष(06112 235288) का सुगमता से संचालन सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया।

विभागीय निर्देश के आलोक में निजी अस्पतालों में भी कोविड-19 ईलाज के लिए बेड चिन्हित करने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया। कोविड-19 के निजी लैब मैं टेस्टिंग के लिए भी उपयुक्त लैब को चिन्हित कर टेस्टिंग हेतु अनुमति प्राप्त करने के लिए विधि सम्मत कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा गया। इस अवसर पर सभी विभाग के वरीय अधिकारी मौजूद थे।

Check Also

नई शिक्षा नीति : संस्थान में सरकार का हस्तक्षेप ज्यादा होगा और डिग्री का महत्व कम-राठौर

🔊 Listen to this मधेपुरा/बिहार : मानव संसाधन विकास विभाग द्वारा लाई गई बहुप्रतीक्षित नई …