दरभंगा : स्वास्थ्य व्यस्था हो सकती है प्रभावित, ग्रामीण से लेकर शहर तक सभी आशा और ममता कार्यकर्ता गई हड़ताल पर

728x90
Spread the news

पंकज कुमार की रिपोर्ट

मनीगाछी/दरभंगा/बिहार : प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हायाघाट में शनिवार को “आशा” संयुक्त संघर्ष मंच के अहवान पर 12सुत्री माँगो को लेकर सभी आशा कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई। हड़ताल पर जाने के बाद सभी आशा कार्यकर्ताओ ने सुबह 8 बजे से ही आउटडोर में उपस्थित होकर आउटडोर को बन्द करा दी तथा धरनास्थल पर बैठक कर बिहार सरकार और केंद्र सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। इसके बाद सभी हड़ताली आशा कर्मी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ ललित कुमार लाल का घेराव की।

इस मौके पर हड़ताल का नेतृत्व कर रही संयोगिता चौधरी आशा कर्मी ने अपने संबोधन में कहा कि हम लोग रात दिन परिश्रम करके मरीजों कि सेवा करते हैं लेकिन सरकार हम पर ध्यान नही दे रही है। सरकार से हमारी मांग है कि हमारा मानदेय 18000 निर्धारित किया जाए तथा सरकारी सेवक घोषित किया जाए। अगर सरकार हमारी मांगें पूरी नही करती है तो हम उग्र आंदोलन भी करेगें।

इस मौके पर हड़ताली कर्मी में संयोगिता चौधरी, अनवरी बानो , रंजू देवी, गिरजा देवी, शाइस्ता, जाहिरा, रेखा देवी, रिकुं देवी, फोटो कुमारी, कौशर आरा, अनीता कुमारी, दुर्गा देवी, रेणु देवी, सिन्टु देवी, बबिता देवी आदि उपस्थित थी। उधर मनीगाछी पीएचसी कार्यालय परिसर में भी आशा-ममता कार्यकर्ता ने 12सूत्री मांगो को लेकर धरना-प्रदर्शन किया।प्रखण्ड अध्यक्ष समुद्री कुमारी की अध्यक्षता में हुई प्रदर्शनकारियो ने केन्द्र व राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इनलोगों की माँग है कि बैक के द्वारा भुगतान, पांच लाख की बीमा, स्वास्थ्य कर्मचारी की मनमानी, बकाया राशि, बार-बार धमकी देना, समाजिक सुरक्षा की सुविधा अन्य सभी अवकाश, भविष्य निधि सामाजिक सुरक्षा पेंशन आदि दिया जाए। इस दौरान चन्द्रशीला देवी, जया रानी, मुन्नी देवी, पुनीता देवी, बबीता देवी, अनुराधा कुमारी, पूनम देवी, खुर्शीदा खातुन, गंभीरा देवी, सुजीता देवी सहित सभी कार्यकर्ता उपस्थित थे।


Spread the news