दरभंगा : नशा मुक्त समाज बनाने की हुई वकालत, लेकिन बड़ा सवाल आखिर शराब मिलना कब होगा बन्द?

728x90
Spread the news

ज़ाहिद  अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार :  पुलिस महानिदेशक बिहार सैन्य पुलिस गुप्तेश्वर पांडे ने लहरियासराय स्थित एमएल अकैडमी में नशा मुक्ति संबंधी जन जागरण अभियान में कहा कि नशा शरीर, बुद्धि एवं चरित्र सबका नाश कर देता है। बच्चे, बूढ़े एवं युवा सब को इससे दूर रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि नशा आदमी के व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन के लिए भी हानिकारक है। युवा वर्ग को सभी प्रकार के नशा से विशेष रूप से दूर रहने की जरूरत है। साथ ही यह भी आवश्यक है कि समाज में लोगों को सभी प्रकार के नशा से दूर रहने के लिए निरंतर प्रेरित किया जाए।

 पुलिस महानिदेशक ने कहा कि मनुष्य का कर्म मन एवं बुद्धि से संचालित होता है। मन का स्वाभाव चंचल होता है जो भौतिक सुख के लिए प्रेरित करता है। वही बुद्धि हमें गलत काम करने से रूकती है। इसलिए मन के प्रभाव में ना आकर हमें बुद्धि एवं विवेक का इस्तेमाल करना चाहिए। स्कूली बच्चों को देश प्रेम एवं राष्ट्रभक्ति की शिक्षा देते हुए उन्होंने कहा कि हम सब को जाति धर्म के आधार पर किसी तरह के भेदभाव से बचना चाहिए एवं सशक्त देश बनाने के लिए मिलकर काम करना चाहिए। बच्चों को पढ़ाई के प्रति प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा कि पढ़ाई लिखाई के जिस काम को करने में आज तकलीफ अनुभव होता है वही आगे चलकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाएगा।

पुलिस महानिरीक्षक पंकज कुमार दराद ने कहा कि नशा मुक्ति अभियान समाज के कल्याण के लिए एक प्रकार का महायज्ञ है। इसमें सब को मिलकर काम करने की जरूरत है तभी हम एक नशा मुक्त समाज बना सकेंगे। मैंने लोगों से आग्रह किया कि सभी प्रकार के नशा को ना कहने की आदत डालें यह हमारे शरीर एवं हमारे नैतिक बल को खोखला कर देता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के द्वारा उठाया गया नशा मुक्ति कार्यक्रम एक बहुत ही प्रभावकारी कार्यक्रम है।

जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि नशा का व्यापार एवं उसके उपयोग को रोकने के लिए दंडित किया जा रहा है। नशा मुक्त समाज तभी बनेगा जब समाज का हर व्यक्ति जागरूक हो जाएगा और यह संकल्प लेगा की वह अपने समाज में किसी प्रकार के नशा को ना होने देंगे। उन्होंने बच्चों एवं नागरिकों को सिविल सिपाही की संज्ञा दी और कहा कि जन जागरूकता से ही नशा जैसी कुर्तियां पर रोक लगाने संबंधी स्थाई सफलता मिल सकती है। जिलाधिकारी ने समाज के बच्चों को जागरूक किया।

वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक ने एक व्यक्ति को सभी प्रकार के नशा से दूर रहने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि लोगों में देशभक्ति एवं देश प्रेम होना चाहिए। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को नशा से दूर रहने के लिए शपथ भी दिलाई गई।

नशा मुक्ति जन जागरण कार्यक्रम में जिला शिक्षा पदाधिकारी महेश प्रसाद सिंह विद्यालय के अधिकारी, स्थानीय नागरिक एवं स्कूली बच्चे शामिल थे।


Spread the news