सहरसा : 12 दिनों से लापता प्रभु पासवान का शव बरामद, आक्रोशित लोगों ने सड़क जामकर पुलिस के खिलाफ की जमकर नारेबाजी

728x90
Spread the news

 सहरसा राजा कुमार की रिपोर्ट 

सहरसा/बिहार : सदर थाना क्षेत्र के पसराहा गांव में गरुवार की देर शाम नहर के पास पुलिस ने शव बरामद किया। मृतक की पहचान सराही मुहल्ला वार्ड नं 03 निवासी प्रभु पासवान के रूप में हुई।

मिली जानकारी अनुसार पिछले 12 नवंबर से घर लापता था। माँ ने अपने पुत्र की सकुशल बरामदगी के लिये पत्नी सहित बूढ़ी माँ समाजसेविका सरिता पासवान सहित दर्जनों लोगों के साथ एसपी कार्यालय पहुंचकर एसपी राकेश कुमार से गुहार लगायी थी। लेकिन प्रभु पासवान को सकुशल बरामद करने पुलिस नाकाम रही और बीती देर शाम सदर थाना के पसराहा के एक नहर किनारे से प्रभु पासवान की लाश बरामद हुई है। सुबह में परिजनों ने लाश की पहचान कर ली। फिर उसके बाद सराही सहित स्थानीय लोगों का गुस्सा पुलिस पर उबल पड़ा। आक्रोशित लोगों ने थाना चौक और कुंवर सिंह चौक को जाम कर दिया और सदर थाना घुसकर जमकर हंगामा किया।

मौके पर सदर एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी, सदर एसडीओ शम्भू नाथ झा, सदर थाना अध्यक्ष आर के सिंह पुलिस बल मौजूद रहे। वहीं इस घटना को लेकर पूर्व लोजपा प्रत्याशी सरिता पासवान ने कहा कि मुख्यमंत्री भी सहरसा आये हुए थे हमलोगों ने उनके पास भी आवेदन लगाया था। सहरसा जिला में गरीब मजदूरों को हक़ दिलानेवाला कोई नही, इंसाफ दिलानेवाला कोई नही। हमलोगों ने 10 दिन पहले पीड़ित परिवार के साथ जाकर आवेदन दिया था और कहा था इसपर कार्रवाई कीजिये। हमलोगों को अशंका है कि मेरे परिवार के व्यक्ति की हत्या हो चुकी है। लेकिन प्रशासन का रुख दूसरा था बार-बार उन्होंने कहा कि आपके व्यक्ति की हत्या नही हुई है, वो कर्ज के कारण घर से भाग गया है। इसलिए मैं प्रशासन से मांग करती हूँ कि हमारे व्यक्ति को जिंदा क्यों नहीं वापस किये और जब परिवार के लोग ने डेड बॉडी को खोजकर दिया तो आप दोषी पर कार्रवाई कीजिये और मृतक के परिवार के लोगों को 5 लाख का मुआवजा दीजिये। साथ ही साथ उसके परिवारों में एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दीजिये जिससे उसके परिवार का भरण-पोषण हो सके।

वहीं जाम स्थल पर सदर एसडीओ शम्भू नाथ झा, सदर एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी ने आक्रोशित लोगों को समझा बुझाकर जाम हटवाकर शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेजा सदर अस्पताल। उन्होंने कहा कि तत्काल मुख्यमंत्री पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार का चेक मृतक के पत्नी को उपलब्ध कराया जा रहा है और कल्याण विभाग से भी जो मुआवजा का प्रावधान है पुलिस प्रतिवेदन के आधार पर वो भी मृतक के परिवार को उपलब्ध करवाया जायेगा। इस घटना को लेकर सदर एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी ने कहा कि जो भी इस हत्याकांड में शामिल है उसकी गिरफ्तारी कर उचित कार्रवाई की जायेगी।


Spread the news