कटिहार : तारिक अनवर के एनसीपी छोडने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ता-राहत कादरी

728x90
Spread the news

मुर्शीद आलम
ब्यूरो,कटिहार

कटिहार/बिहार : तारिक अनवर के पार्टी छोड दाने से पार्टी को कोई फर्क नही पडता है। बल्कि पार्टी पहले से काफी मजबूत सथिति मे है।

उक्त बातें एनसीपी कार्यकारी युवा प्रदेशअध्यक्ष राहत कादरी ने कही ।  उन्होंने कहा कि एनसीपी तारिक साहब के नाम पर  चलती है यह एक हवा थ।

प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए एनसीपी के  प्रदेश उपाध्यक्ष मोहम्मद शकूर ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का मैं अभी एनसीपी के  प्रदेश  उपाध्यक्ष हूं। देश के हित राज्य के हित में राष्ट्रवादी के संग में रहना ज्यादा अच्छा समझता हूँ ।  उन्होंने कहा की इससे पूर्व एनसीपी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम  में 23 अक्टूबर 18 को मै  पटना में  था, जहां  एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष नवल किशोर शाही शामिल हुए थे । पूर्व एमएलए शकूर ने कहा कि आगामी 19 नवंबर को शहर के टाउन हॉल में एक अभिनंदन समारोह का आयोजन रखा गया है। जहां नवल किशोर शाही  की स्वागत की तैयारी जोरों से की जा रही है। उन्होंने कहा कि मैं पहली बार  मीडिया कर्मियों को संबोधित कर रहा हूं। उन्हों ने कहा कि मैं इस संगठन में रह कर काम करना चाहता हूं । जनता की सेवा करना चाहता हूं ।देश की भलाई करना चाहता हूं । अभिनंदन समारोह में मैं माॅग करूंगा कि कटिहार लोक सभा सीट के लिए भी एनसीपी का उम्मीदवार खड़ा किया जाए, और अगर हाईकमान का फैसला हुआ तो मैं यहां से एनसीपी के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ूंगा।

उन्होंने कहा कि मैं कड़ी मेहनत के साथ पढ़ लिखकर आज यहां तक पहुँचा हुॅ। प्राइमरी टीचर से लेकर मदरसा एवं हाई स्कूल का शिक्षक रह चुका हूं। जहां मैंने शिक्षा बाटी है, वहीं एक विधायक के रूप में लोगों की सेवा की है । उन्होंने कहा कि मैं पहली बार सीपीएम से 1969 में विधायक बना, 1972 में बरारी से कांग्रेस से एमएलए चुना गया, जबकि 1977 में प्राणपुर से चुनाव कांग्रेस पार्टी से लड़ा और इस बार मेरी हार हुई। फिर प्राणपुर से ही 1980 में चुनाव जीते, 1985 में उनका टिकट कांग्रेस से काट लिया गया, और 5 साल घर बैठे रहे, 1990 में फिर मुझे कांग्रेस से  टिकट नहीं मिला और निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में प्राणपुर विधानसभा क्षेत्र से मैंने चुनाव लड़ा और इस बार मुझे जीत हासिल हुई । 2001 में तारिक अनवर द्वारा फिर टिकट मिला और बरारी से चुनाव हार गए । फिर  2005 में बरारी  से एनसीपी से जीत मिली ।  मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अब मैं एनसीपी में  प्रदेश उपाध्यक्ष के रूप में हूं ,और एक मजबूत सिपाही के रूप में खड़ा हॅ।

उन्होंने कहा कि 19 नवंबर को शहर के टाउन हॉल में प्रदेश अध्यक्ष नवल किशोर शाही पहुंच रहे हैं। जिनके स्वागत में हम लोग बड़ी संख्या में भाग लेंगे ,और उनसे मांग होगी कि कटिहार से एनसीपी के उम्मीदवार को   खड़ा किया जाए । उन्होंने कहा कि अगर पार्टी हाई कमान ने एनसीपी से टिकट दिया तो मैं यहाँ से सांसद सीट से चुनाव लड़ुगाॅ।

इस मौके पर बरारी प्रमुख पति अरविंद भगत जिला परिषद सदस्य मोहम्मद रजा उल हक, पंचायत समिति सदस्य, रामाआशीष चौधरी, आनंदी यादव, विनोद यादव, अबुल कलाम आजाद के अलावा पार्टी के और लोग बड़ी तादाद में मौजूद थे।


Spread the news