दरभंगा : महाविद्यालयों में 11 दिसम्बर को होगा छात्र संघ का चुनाव, कलम की जगह मुहर का होगा उपयोग

728x90
Spread the news

ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा

दरभंगा/बिहार : छात्र संघ चुनाव को लेकर आज मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेन्द्र कुमार सिंह ने संकायाध्यक्षों एवं अंगीभूत महाविद्यालयों के प्रधानाचार्यों के साथ बैठक की। इस अवसर पर कुलपति प्रो. सिंह ने कहा कि यह काम चुनौतीपूर्ण है, लेकिन हम आशा करते हैं कि पिछले वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष चुनाव कराने में आप लोग सफल होंगे।

उन्होंने विधि-व्यवस्था के सम्यक संधारण के लिए प्रधानाचार्यों को निर्देशित किया गया कि वे स्थानीय प्रशासन से संपर्क कर पुलिस बल एवं दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति निर्वाचन कार्य के दौरान सुनिश्चित कर लें। विश्वविद्यालय इस संदर्भ में राजभवन एवं विश्वविद्यालय क्षेत्राधिकार के जिला प्रशासन के निरंतर संपर्क में रहेगा। मुख्य चुनाव अधिकारी डॉ.चंद्रभानु प्रसाद सिंह ने छात्रसंघ के परिनियमों और विनियमों की चर्चा निर्वाची पदाधिकारियों से की। उन्होंने वैचारिक आग्रह से परे निष्पक्षता पर बल दिया और विधिमान्य निर्वाचन-प्रक्रिया के विविध बिंदुओं की चर्चा की। सम्यक विचारोप्रांत प्रस्तावित प्रतियोगी परीक्षाओं के मद्देनजर पूर्व घोषित निर्वाचन कार्यक्रम में आंशिक संशोधन किया गया।

प्रथम चरण में अब 3 एवं 4 दिसंबर को नामांकन होगा, जबकि 5 को स्क्रूटनी, 6 को नाम वापसी तथा उसी दिन उम्मीदवारों की अंतिम सूची का प्रकाशन होगा। 11 दिसंबर को चुनाव होगा एवं 12 दिसंबर को मतगणना एवं परिणाम की घोषणा होगी। विश्वविद्यालय छात्र संघ के गठन की प्रक्रिया 14 दिसंबर को मतदाता सूची के प्रकाशन के साथ शुरू होगी। 15 दिसंबर को नामांकन एवं स्क्रूटनी की तिथि निर्धारित की गई है। 16 दिसंबर को नाम वापसी एवं उम्मीदवारों की सूची का अंतिम प्रकाशन होगा। 19 दिसंबर को चुनाव होगा और उसी दिन परिणाम की घोषणा होगी।

स्टेयरिंग कमिटी के सदस्य एवं पूर्व मुख्य चुनाव पदाधिकारी प्रो. रतन कुमार चौधरी ने निर्वाचन की प्रक्रिया एवं उम्मीदवारी हेतु वांछित योग्यता आदि से जुड़े विधिमान्य बिंदुओं की चर्चा की तथा प्रधानाचार्यों द्वारा किये गये जिज्ञासाओं का समाधान किया। विमर्षोपरांत तय हुआ कि इस बार मतदान में कलम के बदले मुहर का प्रयोग होगा और मतदाताओं की अंगुलियों पर स्याही लगाई जाएगी। मुहर एवं स्याही की आपूर्ति विश्वविद्यालय करेगा।


Spread the news