मधेपुरा : “स्टूडेंट एक्शन” के राष्ट्रीय संपादक मंडल में राठौर को जगह, राष्ट्रीय फलक पर मिली एक और जिम्मेदारी

728x90
Spread the news

अमित कुमार
उप संपादक

छात्रनेता राठौर को राष्ट्रीय फलक पर मिली एक और जिम्मेदारी

कोसी से किसी ए अाई एस एफ नेता को पहली बार संपादक मंडल में मिली जगह

साहित्य के क्षेत्र में कई राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त कर चुके हैं राठौर

मधेपुरा/बिहार : एअाईएसएफ के 29 वें राष्ट्रीय महाधिवेशन में संगठन के राष्ट्रीय टीम में शामिल किए गए छात्रनेता हर्ष वर्धन सिंह राठौर को संगठन ने एक और बड़ी जवाबदेही दी है। विगत दिनों दिल्ली में आयोजित ए अाई एस एफ की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक में सर्वसम्मति से संगठन के राज्य उपाध्यक्ष सह वि वि प्रभारी हर्ष वर्धन सिंह राठौर को ए अाई एस एफ की चर्चित राष्ट्रीय पत्रिका “स्टूडेंट एक्शन” के सात सदस्यीय संपादक मण्डल में शामिल किया गया।

राठौर के नाम को प्रस्तावित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय महासचिव विक्की माहेश्वरी ने कहा की कामरेड राठौर की पहचान एक चर्चित छात्र नेता के साथ – साथ राष्ट्रीय फलक पर विभिन्न सम्मानों से सम्मानित युवा साहित्यकार, वक्ता और उद्घोषक के रूप में भी रही है,जो संगठन के लिए गौरव की बात है । ए अाई एस एफ की राष्ट्रीय पत्रिका के टीम में हर्ष वर्धन सिंह राठौर को शामिल करने का एकमात्र उद्देश्य उनके अनुभव का लाभ लेना है। राष्ट्रीय महासचिव के प्रस्ताव पर सर्वसम्मति से राठौर को शामिल किया गया।

ज्ञातव्य हो की राठौर ए अाई एस एफ के बैनर तले छात्र राजनीति करने के साथ-साथ वक्तृता, उद्घोषणा व साहित्य के क्षेत्र में भारत सरकार के अलावा विभिन्न राज्य सरकारों व अनेक संगठनों द्वारा अलग -अलग मौकों पर सम्मानित होकर जिला का मान बढ़ाते रहे हैं। साहित्य में लगभग एक दशक से सक्रिय राठौर विभिन्न स्तरों की कई पत्रिकाओं में प्रधान संपादक, संपादक के अलावा प्रतिनिधि की भूमिका में हैं। इसके अलावा उनकी कई रचनाओं को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित भी किया गया है जिसमें गानों का आज कल, बंटवारे के पहले का हिंदुस्तान अच्छा था, बेटी आदि प्रमुख हैं।

सिंहेश्वर प्रखंड के बैरबन्ना निवासी निवासी तेज प्रताप सिंह व प्रभावती देवी की संतान राठौर का साहित्य के प्रति रुझान स्वर्गीय दादा शिव बचन सिंह के सानिध्य में मिला वहीं माता-पिता के मार्गदर्शन व उत्साहवर्धन ने सफलता की आधारशिला रखी। छात्र नेता राठौर के लिए यह खास उपलब्धि इस लिए भी है क्योंकि वो राष्ट्रीय सचिव मंडल के सदस्यों के अलावा राष्ट्रीय परिषद् के एकलौते प्रतिनिधि हैं, इतना ही नहीं कोसी से संपादक मण्डल में जगह बनाने वाले ए अाई एस एफ के पहले छात्र नेता भी हैं। राष्ट्रीय टीम में नई जिम्मेदारी मिलने के बाद राठौर ने कहा की यह उनके लिए गौरव की बात है की उन्होंने सामान्य परिवार से निकल कर यह मुकाम प्राप्त किया। उन्होंने कहा की इससे उनके साहित्यिक काम को बल मिलेगा और बेहतर भी कर सकेंगे।

राठौर ने कहा की पत्रिका का आगामी अंक पूर्णतः संगठन के 29 वें राष्ट्रीय सम्मेलन को समर्पित होगा।छात्र नेता राठौर ने इस उपलब्धि का सर्वाधिक श्रेय अपने आलोचकों के साथ शुभचिंतकों को दिया है । वहीं राठौर को नई जिम्मेदारी मिलने पर एआई एस एफ राज्य परिषद ने बधाई दी हैं।


Spread the news