मुरलीगंज सीएचसी में जंग खा रही लाखों की एक्स-रे-मशीन, निजी केंद्र में जाना मजबूरी

728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, मुरलीगंज में महीनों पूर्व लगे लाखों की एक्स-रे-मशीन, टैक्निशियन के आभाव में धुल फांक रही है। आए दिन लोगों को एक्स-रे के लिए बाहर जाना पड़ता है। इससे आमलोगों की परेशानी को समझना सहज है। जबकि लोगों की सुविधा के लिए समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 24 मार्च 2021 को एक्स-रे मशीन स्थापित किया गया है। बड़ी मशीन होने के कारण थ्री फेज बिजली कनेक्शन भी हो चुका है। एक्स-रे-मशीन संचालित होने की सारी प्रक्रिया पूरी है। लेकिन एक्स-रे टैक्निशियन नहीं रहने के कारण करीब नौ माह से लाखों की मशीन धुल फांक रही है।

जानकारी के अनुसार स्टेट हेल्थ सोसाइटी के द्वारा सीएचसी में एक्स-रे-मशीन स्थापित कराया गया है। बताया गया कि सीएचसी में एक्स-रे टैक्निशियन का पदस्थापन नहीं है। जिस कारण क्षेत्र के लोगों को सीएचसी में एक्स-रे सुविधा से वंचित होना पड़ रहा है। वहीं पिछले अक्टूवर माह से पूर्व से चल रहे एक्स-रे-मशीन भी बंद है। इसके टैक्निशियन को रोगी कल्याण समिति से भुगतान किया जा रहा था। लेकिन रोगी कल्याण समिति में फंड नहीं आने की बात कही गई है। जिस कारण नये एक्स-रे-मशीन संचालित करने के लिए टैक्निशियन की व्यवस्था नही की गई है। जिससे जाहीर होता है एक्स-रे-मशीन संचालित कराने के प्रति सीएचसी प्रशासन गंभीर नहीं है। लो लोगों का कहना है कि सीएचसी प्रशासन के उदासीन रवैये के कारण एक्स-रे सुविधा नदारद है। हालांकि 22 सितंबर को सीएचसी प्रभारी ने सिविल सर्जन को पत्र भेजकर मार्गगदर्शन देने की मांग की है, लेकिन अभी तक स्थानीय स्तर पर कुछ भी सकारात्मक परिणाम नही दिख रहे हैं।

इस बाबत प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ संजीव कुमार ने बताया कि एक्स-रे-मशीन स्थापित है, लेकिन टैक्निशियन के आभाव और वरीय पदाधिकारी से मार्गदर्शन नहीं मिलने के कारण बंद है। 

मिथिलेश कुमार
संवाददाता
मुरलीगंज, मधेपुरा