मधेपुरा : लोक आस्था का महापर्व छठ पर महंगाई हावी, सामानों के दाम में 20 से 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी

Spread the news

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा (बिहार) : लोक आस्था का महापर्व छठ पर इस वर्ष महंगाई हावी है. हालांकि फिर भी महंगाई का असर आस्था पर बिल्कुल नजर नहीं आ रहा है. लोग पूजा सामग्री की जमकर खरीदारी कर रहे है. जिला मुख्यालय सहित अन्य बाजारों में पूजा सामग्रियों के अनगिनत दुकानें सज गयी है. रविवार को सुबह से ही बाजार में रौनक बनी हुई है. पूजा सामग्री के विक्रेताओं और खरीदारों की माने तो गत वर्ष के मुकाबले इस वर्ष केला सहित अन्य फल के दामों में 50 फीसदी और अन्य वस्तुओं के दामों में 20 से 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. हिंदू धर्मावलंबियों के इस त्योहार के उपर महंगाई का प्रकोप रहने के कारण सबसे अधिक परेशानी मध्यम और निम्न वर्ग के लोगों को हो रही है. कम आय वाले श्रद्धालु पान नहीं तो पान की डंटी सही के तर्ज पर सीमित खर्च में ही इस महापर्व को मनाने की तैयारी में जुटे हुए है. सोमवार को त्योहार की खरीदारी करने पहुंचे लोगों ने बताया कि महंगाई के कारण केला का घोर नहीं खरीद नहीं खरीद रहे है. दो हत्था केला से ही छठ मैया की अराधना कर लेंगे.

फल के दाम में हुई अप्रत्याशित बढ़ोतरी
सूर्यदेव की अराधना के त्योहार छठ पूजा में फल का महत्वपूर्ण स्थान है. खास कर केला के घौर की खरीदारी सबसे अधिक होती है, लेकिन कोसी क्षेत्र में केला की वृहत पैमाने पर खेती नहीं होने के कारण त्योहार के मौके पर अत्यधिक मांग की पूर्ति के लिए केला भागलपुर, समस्तीपुर, हाजीपुर, मुजफ्फरपुर आदि जगहों से मंगवाकर बिक्री की जाती है. नारियल फल का भी इस त्योहार काफी महत्व है. जबकि कोसी क्षेत्र में नारियल की खेती बिल्कुल नहीं होती है. इन फलों के बाहर से मंगवाये जाने के कारण कीमत अत्यधिक बढ़ जाती है. इस वर्ष केला के घौर के दाम व्रतियों को परेशान कर रहा है. वहीं सेब, नारंगी, अनार आदि फल भी डिमांड रहने के कारण अचानक महंगा हो गया है.
बाजार में चार सौ में बिक रहा केला का घौर
केला – 250 से 400 सौ रूपये प्रति घौर
सेब – 80 से 100 रूपये प्रति किलो
नारंगी – 80 से 100 रूपये प्रति किलो
अनार – 140 से 160 रूपये प्रति किलो
नारियल – 30 से 40 रूपये प्रति पीस
सिंघारा – 80 से 100 रूपये किलो
गन्ना – 07 से 20 रूपये प्रति पीस
अल्हुआ – 20 से 25 रूपये प्रति किलो
सुथनी – 20 से 30 रूपये प्रति किलो
हल्दी – 30 से 35 रूपये प्रति किलो
टाभ नीबू – 10 से 12 रूपये प्रति पीस
नीबू – 03 से 05 रूपये प्रति पीस
मौसमी – 40 से 55 रूपये प्रति किलो
अनानस 50 से 60 प्रति पीस
सुप डगरा का भी बढ़ा दाम
त्योहार के नजदीक आते ही बांस से बने सुप और डगरा के दामों में भी इजाफा हो गया है. मालूम हो कि छठ पूजा के दौरान बांस से बने इन बर्तनों का खास महत्व है.
सुप – 30 से 40 रूपये प्रति पीस
डगरा – 80 से 100 रूपये प्रति पीस,
चंगेरा (दौरा) – 250 से 300 रूपये प्रति पीस
सुपती – 20 से 25 रूपये प्रति पीस
किराना सामान भी हुआ महंगा
दशहारा, दीपावली एवं उसके बाद महापर्व छठ को लेकर खाद्य पदार्थ के वस्तुओं में भी महंगाई अपना असर दिखा रही है. किराना दुकानदारों की माने तो त्योहार की इस मौसम में सभी तरह के खाद वस्तुओं के मूल्य में 10 से 25 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है. वहीं छठ त्योहार पर खजूर और पिरिकिया सभी घरों में बनाया जाता है. इन पकवानों का भोग भी सूर्यदेव को लगाये जाने की परंपरा रही है. त्योहार के इस मौसम में इन सामग्रियों के मूल्य में भी भारी इजाफा हुआ है.
आटा – 25 रूपये किलो
चीनी – 40 रूपये किलो
वनस्पति – 90 से 100 रूपये किलो
रिफाइन – 110 से 160 रूपये किलो
सरसो तेल – 120 से 140 रूपये किलो
मैदा – 28 रूपये किलो
सूजी – 30 रूपये किलो
छुहारा – 90 से 200 रूपये किलो
नारियल गड़ी – 280 रूपये किलो
काजू – 700 से 800 रूपये किलो
किशमिश – 320 से 380 रूपये किलो
मिट्टी का हाथी भी हुआ महंगा
लोक पर्व छठ के दौरान मनोती पुरा होने पर मिट्टी से बना हाथी चढ़ाने का रिवाज भी मिथिलांचल में परवान पर है. व्रतियों के डिमांड को देखते हुए इस वर्ष हाथी का दाम भी काफी बढ़ गया है. वहीं छठ त्योहार के दौरान घाट पर कलश स्थापित कर चौमुख दीप प्रज्वलित करने और सभी घाट पर दीपावली के तरह मिटटी के दीप जलाये जाने का रिवाज भी है.
मिट्टी के दीप – 01 से 02 रूपये प्रति पीस
चौमुख दीप – 05 से 07 रूपये प्रति पीस
हाथी बड़ा – 150 से 350 रूपये प्रति पीस
हाथी छोटा – 100 से 200 रूपये प्रति पीस
कलश – 10 से 15 रूपये प्रति पीस


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें