नालंदा : राष्ट्रीय राजमार्ग 20 गड्ढा और झील में तब्दील, गाड़ियां खाती हैं हिचकोले, बराबर लगती हैं जाम

728x90
Spread the news

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

नालंदा/बिहार : जिले के गिरियक प्रखंड स्थित मुख्य बाजार में राष्ट्रीय राजमार्ग 20 पर बरसात आते ही गड्ढे और झील में बदल जाती है। 5 माह से इस मुख्य मार्ग गिरियक के बीच बाजार  की सड़क गढ्ढे में तब्दील है, विभाग ने आजतक सुध नहीं लिया। हालत यह है कि इस सड़क मार्ग में गाड़ी तो क्या इंसान भी हिचकोले खाते हैं।

बरसात का मौसम शुरू होते ही जहां आम गालियां नरक बन जाती है और सड़कें भी गढ्ढे में बदलने लगती हैं लेकिन गिरियक बाजार के मुख्य राष्ट्रीय राजमार्ग 20 पर पिछले 5 माह से अधिक समय से सड़क तो पता ही नहीं चलता है कि यहां सड़क थी। आप यहां पर की तस्वीर देखकर खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि गिरियक मुख्य बाजार में सड़क की किया स्थिति है। हालांकि इस तरह के गिरियक से लेकर जिला बिहारशरीफ तक आप को दर्जनों जगहों पर बड़े-बड़े गढ्ढे बीच सड़क पर मिलेंगे, जिससे सबसे ज्यादह खतरा छोटी गाड़ियां और बाइक सवार लोगों को है। बड़े-बड़े मंत्री से लेकर सन्तरी भी इस रास्ते से अक्सर गुजरते हैं लेकिन इस गढ्ढे को भरकर मरम्मती करने का भी काम नहीं किया जा सका । ऐसे हालत में प्रति दिन यहां गाड़ियां कोई न कोई फंस जाती है जिससे लम्बी जाम लग जाती है। इस जाम को स्थानीय पुलिस की मदद से अक्सर हटाने का प्रयास किया जाता रहा है।

बता दें कि सड़क फका जर्जर स्थिति और कीचड़मय हो जाने से आम लोगों को आने जाने में जहाँ कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, वहीं छोटी बड़ी वाहन भी गढ्ढे में कीचड़ से हिचकोले खाते हुए गुजरना पड़ रहा है। सबसे ज्यादह मोटर साइकिल एवं स्कूटी सवार लोगों को इस गढ्ढे से गुजरने में परेशानी हो रही है और जान जोखिम में डालकर भगवान भरोसे लोग गुजरते है।

हालत ये है कि यहां पर आम राहगीरों को भी खड़ा होने की भी जगह नहीं मिल पाती है, ऊपर से गाड़ियों के इधर उधर से गुजरने के कारण लोगों में काफी डर बना रहता है। अगर इस गड्ढे में किसी गाड़ी का गुल्ला टूट गया या फस गया तो इस राष्ट्रीय राजमार्ग 20 पर सड़क के दोनों और लंबी-लंबी गाड़ियों की लाइनें लग जाती है, जिससे मुसाफिरों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। खासकर एंबुलेंस अपनी सायरन देते रहता है लेकिन जाम में नहीं निकल पाता है और एंबुलेंस के अंदर मरीज कराहते और बेबस नजर आते हैं। यह स्थिति है बिहार के मुखिया नीतीश कुमार के गृह जिला का।


Spread the news