दरभंगा : टीईटी शिक्षकों ने लगाया स्वयं से भेदभाव का आरोप

Spread the news

ज़ाहिद अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : दरभंगा जिला अंतर्गत कार्यरत टीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षकों ने जिला शिक्षा विभाग पर स्वयं के साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ गोपगुट के बैनर तले जिला शिक्षा अधिकारी एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

वही कुशेश्वरस्थान के प्रखण्ड शिक्षको का अभी तक लॉक डाउन अवधि का भुगतान नही होने पर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी से पहल की मांग किये। संघ के जिलाध्यक्ष प्रमोद मण्डल ने जानकरी दिया कि विगत कुछ समय से विभाग के द्वारा टीईटी शिक्षको के मनोबल को तोड़ने की साजिश की जा रही है। विभिन्न प्रखण्ड से संघ को लगातार सूचना आ रही है कि पदाधिकारी के द्वारा उनके कार्यो को लंबित रख उन्हें कार्यालयों के चक्कर लगवाया जाता है। विभाग से बार बार अनुरोध करने के बाबजूद अभी तक कुशेश्वरस्थान के प्रखण्ड टीईटी का भुगतान नही किया गया जो इसे साबित करने के लिए काफी है कि विभाग शिक्षको के प्रति कितना संवेदनशील है।

वही संघ के कार्यकारिणी सदस्य सोनू मिश्रा ने कहा कि व्यक्ति विशेष संघ विशेष के दबाब में आकर विभाग के द्वारा कार्य किया जा रहा है। यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि आवंटन की उपलब्धता रहते हुए भी कई प्रखंडो के वर्ष 2018 के एरियर का भी भुगतान नही किया गया है। अक्सर विभाग के द्वारा संघ को अंधेरे में रखकर गुमराह किया जाता है। दरभंगा जिला में कई सारे टीईटी शिक्षक अन्य जिलों से है और यहां अपनी सेवा दे रहे है परंतु उनके प्रति विभाग के द्वारा किया जाने वाले व्यवहार से शिक्षको में व्यापक आक्रोश है जो कभी भी आंदोलन का रूप ले सकता है। इसलिए हम विभाग से यह अनुरोध करते है कि पूरी निष्पक्षता के साथ हमारे समस्याओं का समाधान करें।

संघ से रंजन पासवान ने कहा कि लगभग सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी माफिया के दवाब में आकर काम करने लगे है और खण्ड खण्ड में शिक्षको का वेतन विपत्र तैयार करके स्थापना भेजते है। शिक्षको का अनावश्यक वेतन रोककर उसे एरियर में तब्दील कर अवैध राशि की मांग की जा रही है।


Spread the news
advertise