मधेपुरा : एनआरसी, एनपीआर, सीएए देश को बांटने वाली नीति-गणेश मानव

728x90
Spread the news

विज्ञापन
अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : मधेपुरा शाहीन बाग में निरन्तर धरना के माध्यम से केद्र सरकार की एनआरसी, एनपीआर, सीएए की नीति के विरोध को मजबूती मिल रही है। विभिन्न राजनीतिक,गैर राजनीतिक संगठनों का समर्थन लगातार मिल रहा है।

देखें वीडियो :

मंगलवार को देर शाम समर्थन देने पहुंचे मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी के जिला सचिव गणेश मानव ने धरना को लोकतांत्रिक तरीके से विरोध का आदर्श बताया, उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार आज अपने ही वादे सबका साथ सबका विकास को भूल बैठी है और देश को जाति और धर्म के नाम पर बांटने कि साजिश रच रही है। जनहित की जिन मुद्दों पर पहल करने से देश का विकास हो सकता था उसपर बात करने के बजाय अपना पराया की भावना पैदा करने वाली नीति एनआरसी, सीएए, एनपीआर लाकर मुल्क को बर्बाद करने कि बात हो रही है। लगातार धरना के हिस्सा बने वाम छात्र संगठन ए आई एस एफ के राष्ट्रीय परिषद सदस्य सह राज्य उपाध्यक्ष हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि यह लड़ाई अब देश को बर्बाद करने वालों और बचाने वालों के बीच की हो गई है। केंद्र सरकार देश में बेचने और तोड़ने कि नीति चला रही है जिसे किसी कीमत पर सफल नहीं होने दिया जाएगा। दिल्ली के शाहीन बाग से लेकर देश के हर भाग में लोग सरकार के खिलाफ सड़क पर है । उन्होंने कहा कि संविधान बचाने कि यह लड़ाई एक नया इतिहास लिखेगी।

अशोक, साजिया और राशिद ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि यह मैराथन आंदोलन हर हाल में देश व संविधान को बचाने में कामयाब होगा, क्योंकि अलग अलग वर्ग के लोग अपनी चिंता छोड़ कर देश को बचाने को आगे आए हैं।

कार्यक्रम को नूर आलम, फरहान, जावेद, अंकुर, फ़ैज़ आदि ने भी संबोधित किया। अपनी मांगों के समर्थन में  लगातार चल रहे अनिश्चितकालीन धरने में औरतों की भागीदारी बड़ी संख्या में बनी हुई हुई है।


Spread the news