नालंदा : एक दिवसीय उर्दू कार्यशाला का आयोजन

728x90
Spread the news

मो0 मुर्शीद आलम
ब्यूरो, नालंदा

नालंदा/बिहार : शनिवार को जिले के सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय के मीटिंग हॉल में एक दिवसीय उर्दू कार्यशाला का आयोजन किया गया । इस कार्यशाला का उद्घाटन एडीएम मोहम्मद नौशाद आलम ने दीप प्रज्वलित कर किया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि उर्दू की तरक्की का जिम्मेवारी हम सभी पर हैं । उर्दू को तरक्की के लिए सभी को मिलजुलकर प्रयास करने की आवश्यकता है। सरकारी एवं गैर सरकारी स्कूलों में उर्दू के शिक्षा व्यवस्था पर ध्यान देने की सख्त जरूरत है। मजाकिया लहजे में उन्होंने कहा की आजकल कवि सम्मेलन एवं बिरयानी खा कर उर्दू को तरक्की करने का प्रयास कर रहे हैं। यह कहीं से भी मुमकिन नहीं । वहीँ बिहार शरीफ सदर के एसडीओ जनार्दन अग्रवाल ने कहा की बहुत ही खुशी की बात है कि बिहार राज्य का उर्दू दूसरी मातृभाषा है। इसलिए उर्दू जुबान की तरक्की के लिए हम सभी को आगे आना होगा और सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों में भी उर्दू की प्रचलन को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।

इस अवसर पर मशहूर कवि बेनाम गिलानी ने कहा उर्दू बहुत ही मीठी जुबान है और इसकी तरक्की के लिए हम सभी को आगे आना होगा।   सोगरा हाई स्कूल के प्रधानाध्यापक मोहम्मद अरशद स्थानबी ने कहा कि उर्दू का मिलाप हिंदी से है और हिंदी का मेल उर्दू से है, उर्दू के बगैर हिंदी जिंदा नहीं रह सकता है उसी प्रकार हिंदी के बगैर उर्दू जिंदा नहीं रह सकता है। दोनों का मेल बेमिसाल है।

इस मौके पर शहर के कई लोगों ने अपने अपने विचार प्रकट किए।


Spread the news