मधेपुरा : मनारेगा पदाधिकारी और पंसस की बैठक में छाया रहा डिमांड से पहले डिमांड का मुद्दा, कहा, जिला के नाम पर मांगी जाती है मोटी रकम

728x90
Spread the news

मिथिलेश कुमार
संवाददाता
मुरलीगंज, मधेपुरा

योजना पास करवाने और खुलवाने के नाम पर कमीशन को लेकर पंचायत समिति सदस्यों ने किया बैठक में भरपूर विरोध

जिले स्तर पर कमीशन की बढ़ोतरी को लेकर रामपुर मुखिया मदन ऋषि देव ने की धरना प्रदर्शन की बात

मुरलीगंज/मधेपुरा/बिहार : मुरलीगंज प्रखंड के सभा भवन में शनिवार को मनरेगा कार्य योजना वर्ष 2019-20 के अनुमोदन को लेकर पंसस की पदाधिकारियों के साथ विशेष बैठक आहुत की गई। आयोजित विशेष बैठक अध्यक्षता प्रखंड प्रमुख मनोज कुमार साह ने किया। मनरेगा पीओ सत्यप्रकाश ने सभी सदस्यों को बैठक की विषय वस्तु से अवगत कराया। सदस्यों ने सवाल उठाया कि किन-किन पंचायतों में मनरेगा योजना के तहत कार्य चल रहा है। साथ ही कहा वित्तीय वर्ष में मनरेगा से हुए कार्य का विस्तृत जानकारी दें। जिस पर मनरेगा लेखा सहायक अमरेंद्र कुमार ने दो तीन पंचायतों में मनरेगा के कार्य किए जाने की बात बताई।

वहीँ भतखोड़ा पंचायत के समिति जीवच्छ मंडल ने बैठक में उपस्थित पदाधिकारी सदस्यों को अवगत कराते हुए कहा कि महीनों से मनरेगा फाइल दफ्तर में पड़ी हुई है। फाइल आगे बढ़ाने के लिए
डिमांड से पहले डिमांड की जा रही है। फाइल खुलवाने के लिए पहले कमिशन मांग करने की बात कही। इस सवाल पर कोई भी मनरेगा कर्मी कुछ नहीं बोले। इस बीच कई बिन्दुओ पर चर्चा करते हुए सदस्यों ने जमकर हंगामा किया।

रामपुर पंचायत के मुखिया मदन कुमार ऋषिदेव ने मनरेगा योजना में कमीशन बढ़ोतरी का जमकर विरोध किया। उन्होंने सभापति को अवगत कराते हुए कहा अब जिले के नाम पर ज्यादा कमीशन मांग की जाती है। उन्होंने कहा कि अगर जिले से 3% कमिशन मांग की जाती है तो हमलोग इसका पूरजोर विरोध करते हैं। हम धरने पर बैठेंगे और इसका विरोध करेंगे अन्यथा हम लोग कोई काम नहीं करेंगे।

जिस पर पीओ ने बताया कि पहले ग्राम पंचायत से योजना पास होती है। फिर पंचायत समिति से योजना पास होती है। फिर जिला परिषद में योजना जाता है। इस बीच जीवच्छ मंडल ने मुद्दा उठाया कि मेरे एमबी पर कनिय अभियंता हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं। जोरगामा पंसस सीटन साह ने कहा कि सरकार अपनी ही एजेंसियों से काम करवाए। हमलोग सिर्फ कार्य की देखरेख करेंगे। और जब तक काम सही नहीं होगा, हम लोग उस पर अपनी रजामंदी की मुहर नहीं लगाएंगे । इस बीच रजनी पंसस अरविंद कुमार उर्फ बाबूलाल ने कहा कि योजनाएँ ग्राम पंचायत से अनुमोदित होकर एवं समिति से अनुमोदित होकर डीमांड के लिए पड़ी रहती है। शोर शरावे के बीच बीडीओ ललन कुमार चौधरी ने सदस्यों से अनुरोध किया कि बैठक के विषय वस्तु
पर ही चर्चा हो। जिस पर सदस्यों ने कहा कि बहुत बड़ा मुद्दा है। जब तक इस मुद्दे पर कोई साफ-सुथरे विचार सदन के पटल पर नहीं आते हैं। आगे की कार्रवाई नहीं की जाएगी।

भाजपा जिलाध्यक्ष सह मुखिया संघ जिलाध्यक्ष स्वदेश कुमार ने योजना पास कराने में डीमांड की माँग करने की बात पर कहा कि यह गंभीर मुद्दा है। इससे पहले कभी यह मुद्दा सामने नहीं आया है। उन्होंने कहा कि विकास का सारा काम मनरेगा के द्वारा ही होता है। ऐसी बातें होती है तो उस पर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मनरेगा योजना असीमित है। उसमें वृक्षारोपण से लेकर पशु शेड बनाने सहित सारी विकास की योजनाएं जुड़ी है। मनरेगा से पंचायत का विकास बहुत अच्छी तरह हो सकता है। मनरेगा अगर भ्रष्टाचार का अड्डा बनता है तो यह चिंता का विषय है।

प्रखंड प्रमुख मनोज कुमार साह ने फाइल आगे बढ़ाने के लिए पहले कमीशन या डीमांड की माँग करने के मुद्दे पर कहा कि जांच का विषय है।

बैठक में पंसस प्रमोद कुमार, मनोज यादव, गौरी देवी, किरण देवी, सुलोचना देवी, अरविंद कुमार, कंचन कुमारी, विधन ऋषिदेव, योगेंद्र यादव, गौशाई ठाकुर, ममता कुमारी, प्रभात साह, रीता देवी, कविता देवी, अनिता कुमारी, राजीव कुमार, उमा देवी, संतोष पासवान सहित दर्जनों पंसस सदस्य मौजूद थे।


Spread the news