दरभंगा : भाकपा माले की दो दिवसीय बैठक हायाघाट में हुई सम्पन्न, केंद्र और बिहार सरकार को घेरा

728x90
Spread the news

ज़ाहिद  अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : आज दरभंगा ज़िला के हायाघाट प्रखंड में भाकपा माले जिला कमिटी की दो दिवसीय बैठक विलासपुर गांव में संपन्न हुई। बैठक के बाद आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए माले के पोलित ब्यूरो सदस्य सह मिथिलांचल प्रभारी धीरेन्द्र झा ने कहा कि देश मोदीशाही को शिकस्त देने के लिए एकताबद्ध रूप से आगे बढ़ रहा है और भाजपा-संघ परिवार को संविधान-लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ करने का कोई और मौका नहीं मिलने वाला नही है। भाजपा-राजग में भगदड़ मची है।

माले नेता श्री झा ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ पूरे देश और खासकर बिहार में माहौल बनाने में वामपंथ खासकर माले की अहम भूमिका है। बिहार में भाजपा विरोधी ध्रुवीकरण का अहम किरदार माले है। आगे उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ व्यापक एकता वक्त की जरूरत है, लेकिन हमें इस बात की गारंटी करनी होगी कि दुबारा कोई दूसरा नीतीश पैदा न हो। 8-9 जनवरी को ट्रेड यूनियनों के अखिल भारतीय आम हड़ताल को सफल बनाने में वामदल मजबूती से उतड़ेंगे और 9 जनवरी को बिहार बन्द करेगा। सभी ग्रामीण गरीबों सहित किसानों की ऋणमाफी,बढ़ते अपराध, दलितों-महिलाओं पर बढ़ते हमले मुद्दे भी मजबूती से उठेगा। वाम दलों ने आशाओं, रसोईयों और आंगनबाड़ी सेविका-सहायिकाओं को न्यूनतम मजदूरी आधारित मानदेय देने की मांग की जायेगी।

संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए पार्टी जिला सचिव बैद्यनाथ यादव ने कहा कि आगामी 29-30 जनवरी को भाकपा माले का 11 जिला सम्मेलन होगा और इसके पूर्व शाखा, लोकल और प्रखंड सम्मेलन होगा।जिला कमिटी ने गांव-गरीबों का आंदोलन तेज करने की कार्ययोजना बनायी है, उसे आगे बढ़ाया जाएगा। उन्होंने नीतीश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि दरभंगा में बड़ी-बड़ी विकास की बात होती है। लेकिन दरभंगा में अशोक पेपर मिल, चीनी मिल सहित अन्य मिलो को चालू करने पर नीतीश से लेकर मोदी तक का ध्यान नही जाता है। उन्होंने कहा कि मिथिलांचल में बंद पड़े मिलो, बाढ़ सुखाड़ के सवाल पर नीतीश-मोदी की चूप्पी खतरनाक है।

इस मौके पर आर.के सहनी, जंगी यादव, आदि उपस्थित थे।


Spread the news