दरभंगा : आशा कार्यकर्त्ताओं ने अपनी मांगों के समर्थन में ट्रेन का घंटो परिचालन बाधित कर आंदोलन तेज किया

728x90
Spread the news

ज़ाहिद  अनवर (राजु)
उप संपादक

दरभंगा/बिहार : आशा कार्यकत्ताओं को सरकारी सेवक घोषित करने, 18000 रू0 मानदेय सहित 12 सूत्री मांगों को लेकर आशा कार्यकर्त्ताओं के संयुक्त मंच के आह्वान पर 27 दिनों से चल रहे हड़ताल के समर्थन में रेल रोको अभियान के तहत आज दरभंगा स्टेशन पर पवन एक्सप्रेस को घण्टों परिचालन बाधित किया गया।

रेल रोको आंदोलन में बिहार राज्य आशा कार्यकर्त्ता संघ (गोप गुट), खेग्रामस, ऐपवा, बिहार राज्य आशा संघ, बिहार राज्य जन स्वास्थ्य चिकित्सा कर्मचारी संघ के नेतृत्व में दरभंगा म्युजिम से जुटकर जुलूस के शक्ल में दरभंगा जंक्शन पर खड़ी पवन एक्सप्रेस के सामने रेल पटरी पर उतरकर नारेबाजी करने लगे।

रेल रोको अभियान का नेतृत्व सबिता कुमारी, ममता कुमारी, विजयलक्ष्मी देवी, चमन आरा, बिहार राज्य आशा संघ के सरंक्षक उमेश साह, ऐपवा की रसीदा खातून, खेग्रामस के गणेश महतो, विनोद सिंह, सुनीता देवी आदि कर रहे थे। आंदोलन के कारण करीब 2.30 घंटा पवन एक्सप्रेस तक दरभंगा स्टेशन पर ही रूकी रही।

रेल पटरी पर विजयलक्ष्मी की अध्यक्षता में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए ऐक्टू नेता उमेश प्रा0 साह ने कहा कि 27 दिनों से आशा के हड़ताल से ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा पूरी तरह ठप्प हैं लेकिन सरकार सोयी हुई हैं और आज बाध्य होकर आशा कार्यकर्त्ताओं ने ट्रेन को रोकने को मजबूर हुए हैं। अगर जल्द सरकार आशा की मांगों पर सकारात्मक पहल नही करती हैं तो आंदोलन तेज होगा और हड़ताल जारी रहेगा।


Spread the news