मुजफ्फरपुर : डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट प्लान को लेकर औधोगिक नीति के आर्थिक सलाहकार ने जिलाधिकारी के साथ की बैठक

728x90
Spread the news

अंजुम शहाब
ब्यूरो
मुजफ्फरपुर

मुजफ्फरपुर/बिहार : वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत औधोगिक नीति एवं संवर्धन विभाग के आर्थिक सलाहकार ए ०एस भाल तथा प्रो० पुष्पेंद्र प्रियदर्शी के नेतृत्व में आई ० आई० एम लखनऊ की टीम ने डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट प्लान मुजफ्फरपुर को लेकर जिलाधिकारी और जिले के अन्य महत्वपूर्ण विभागों के पदाधिकारियों के साथ एक बैठक की। बैठक का मुख्य उद्देश्य जिले के आर्थिक विकास दर में अगले तीन वर्षों में कम से कम 2 से 3 प्रतिशत में इजाफा करना है। मालूम हो कि भारत सरकार द्वारा चुने गए 6 जिलों में मुजफ्फरपुर भी शामिल है। बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों को जिलाधिकारी द्वारा स्वयं पी० पी० टी के माध्यम से डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट प्लान के बारे में बिंदुवार प्रकाश डाला गया।

बैठक में मुख्यतः लीची प्रोसेसिग और उत्पादन, रेडीमेड गारमेंट्स, हनी प्रोसेसिंग, डेयरी उधोग, मत्स्यपालन जैसे आर्थिक गतिविधियों पर विशेष फोकस तो किया ही गया, साथ ही जिलाधिकारी ने बेबी फूड इंडस्ट्री, लहठी उधोग, मुजफ्फरपुर में टेक्सटाइल का विशेष आर्थिक क्षेत्र(SEZ} बनाने और एयर कनेक्टिविटी को लेकर (पताही एयरपोर्ट के विकास ) पर विशेष फोकस किया।

मालूम हो कि जिले में आर्थिक गतिविधियों में रफ्तार आये तथा उधोगो के विकास की नई संभावनाओ का आकलन करने के उद्देश्य से उक्त टीम ने आज यह बैठक की। बैठक में कई स्टॉक होल्डर के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया जिसमे सुधा दूध के प्रतिनिधि, अध्यक्ष, नार्थ बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स छाबड़िया, खुदरा वस्त्र विक्रेता संघ के प्रतिनिधि, जीविका के प्रतिनिधि इत्यादि उपस्थित थे।

इधर जी एम इंडस्ट्री विभाग अनिल कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि जिले में विगत 2 वर्षों में कुल 63 निवेश प्रस्तावों को राज्य निवेश प्रोत्साहन परिषद द्वारा स्वीकृति दी गई है जिसमे कुल 27 इकाइयां उत्पादन में आ चुकी है।

बैठक में उप विकासः आयुक्त उज्जवल कुमार सिंह, अपर समाहर्ता, आपदा अतुल कुमार बर्मा, सहायक समाहर्ता विशाल राज, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला मत्स्य पदाधिकारी के साथ अन्य विभागों के पदाधिकारी उपस्थित थे।


Spread the news