सीतामढ़ी : धर्म के आधार पर नागरिकता कानून संविधान के ख़िलाफ़ है-कमालुद्दीन राजा

प्रेस विज्ञप्ति :

सीतामढ़ी/बिहार : जिले के बाजपट्टी विधानसभा क्षेत्र में इस्लामपुर चौक से नानपुर प्रखंड तक हजारों हजार की संख्या में मुशाहिद रजा, नेयाज सिद्दीक़ी, अल्पसंख्यक एकता मंच संस्थापक, तनवीर, बाजपट्टी विधानसभा युवा कांग्रेस अध्यक्ष कमालुद्दीन रजा के नेतृत्व में CAA-NRC-NPR के विरोध में प्रतिरोध मार्च निकाला गया।

देखें वीडियो :

नानपुर ब्लॉक में पहुंच कर जिला पार्षद नियाज़ सिद्दीक़ी, अल्पसंख्यक एकता मंच, तनवीर, मुशाहिद, चांद, गोल्डन व बाजपट्टी विधानसभा अध्यक्ष कमालुद्दीन रजा ने धारणा भी दिया। मार्च में कई गांव के लोग भारी संख्या में हिस्सा बनें! मार्च के दौरान, बाजपट्टी विधानसभा युवा कांग्रेस अध्यक्ष कमालुद्दीन रजा ने केंद्र सरकार व बिहार की नीतीश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

विज्ञापन

प्रदर्शनकारी, देश तोड़ने की साज़िश नही चलेगी, संविधान विरोधी सीएए एनआरसी वापस लो, मोदी सरकार होश में आओ, जेएनयू पर हमला करवाना बंद करो के नारे लगा रहे थे। वहीं बाजपट्टी विधानसभा युवा कांग्रेस अध्यक्ष कमालुद्दीन रजा ने मीडिया को संबोधित कर बताया आज देश को जिस की ज़रूरत है वो काम तो मोदी साह कर नही रही है।  आम जनता को गुमराह करने के लिए कभी नोटबंदी कर लोगों का रोजगार छीन लेती है तो कभी जीएसटी लागू कर छोटे छोटे व्यापारी के रोजी रोटी छीन देश की अर्थवयवस्था को चौपट करने में कोई कसर नही छोड़ा, और जब तानाशाह रंगा बिल्ला की सरकार के मंसूबे को जनता समझ गई तो, देश विरोधी मोदी साह सरकार ने फिर से असंवैधानिक CAA-NRC  कानून लाकर देश में दंगा करवाना चाहती है। पूरे देश में इस कानून के खिलाफ जनता सड़कों पर विरोध जता रही है। जिसे हिटलर मोदी सरकार पुलिस द्वारा लाठी, गोली, चलवाकर जनता की आवाज़ को बंद कराने का प्रयास कर रही है। अब देश की जनता जग चुकी है, हमारे पुरखों ने अंग्रेजों को खदेड़ा था। हम देशवासी सावरकर, गोडसे के विचारधारा पर चलने वाले भाजपा सरकार को सत्ता से उखाड़ फेकने का काम करेंगे।

विज्ञापन

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि मोदी, शाह, के इशारे पर  जेएनयू में आंदोलन कर रहे छात्र छात्राओं को  शिक्षा के मंदिर में घुस कर जिस तरह से भाजपा के सहयोगी एबीवीपी, और आरएसएस के गुंडों ने बुरी तरह से मारा पीटा यह बहुत ही शर्मनाक है। हम देशवासी अपनी जान दे देंगे मगर संविधान विरोधी काले कानून को नही मानेंगे और ना ही  कागज दिखाएंगे ।

विज्ञापन

 

 मौके पर एनसीपी नेता शकील अहमद, रही मिस्बाही, कलाम,  राम, तौसीफ, जमाल रजा, कैलाश सहनी, राजा, लाडले, वकार, बिंदे राम, खायाबान अहमद, कुदशी, सोगर्त झा, मुशाहिद , ग़ज़ाली , सुनील बैठा, राशिद परदेशी, अफजल, आरज़ू, अकमल, जिलुर रहमान, भीम सेना से चंदन यादव, एनसीपी नेता शकील अहमद, खुर्रम समेत भारी संख्या में लोग मौजूद थे।

Check Also

मधेपुरा : पेड़ प्रकृति की अमूल्य धरोहर- ललित कुमार सिंह

🔊 Listen to this चौसा से संवाददाता नौशाद आलम की रिपोर्ट : चौसा/ मधेपुरा/ उदाकिशुनगंज …