मधेपुरा : अंतर महाविद्यालय कबड्डी प्रतियोगिता का समापन, पुरुष वर्ग में टीपी कॉलेज तो महिला वर्ग में मधेपुरा कॉलेज ने मारी बाजी

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार :  भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय द्वारा अंतर महाविद्यालय कबड्डी पुरुष एवं महिला प्रतियोगिता का समापन शनिवार की देर शाम को संपन्न हो गया। समापन समारोह के अवसर पर बीएनएमयू के प्रति कुलपति प्रो डा फारुख अली, कुलसचिव डा कपिलदेव प्रसाद यादव, क्रीडा विभाग के सचिव डा अबुल फजल, सह सचिव डा शंकर मिश्रा, कुलपति के निजी सचिव शंभू नारायण यादव, पीआरओ डा सुधांशु शेखर, यूभीके कॉलेज करामा आलमनगर के प्राचार्य सह अनुदानित महाविद्यालय प्रधानाचार्य संघ के महासचिव डा माधवेंद्र झा उपस्थित थे।

 कबड्डी प्रतियोगिता सुबह 7:30 बजे आरंभ होकर फाइनल मैच देर शाम पुरुष वर्ग में टीपी कॉलेज और पार्वती कॉलेज के बीच हुआ। जिसमें टीपी कॉलेज 24 अंको से जीत हासिल किया। वहीं महिला वर्ग में मधेपुरा कॉलेज तथा पीएस कॉलेज के बीच मुकाबला हुआ। जिसमें मधेपुरा कॉलेज एक अंक से बढ़त बनाते हुए जीत हासिल किया।

ग्रामीण खेलों के खिलाड़ी सभी खेलों में प्रतिभागी बने

प्रति कुलपति ने अपने संबोधन में कहा की बीएनएमयू के कैलेंडर में जो खेल शामिल नहीं है, उसे शामिल किया जाएगा।  खासकर ग्रामीण खेलों को विशेषकर हम चाहते हैं कि प्रत्येक महाविद्यालय पुरुष एवं महिला खिलाड़ी सभी खेलों में प्रतिभागी बने और विश्वविद्यालय बिहार में अव्वल दर्जा प्राप्त करें। कुलसचिव डा कपिलदेव प्रसाद यादव ने कहा कि विश्वविद्यालय में खेल को विकास व बढ़ावा देने के लिए पैसे की कमी नहीं है। प्रथम चरण में अंगीभूत महाविद्यालय को दो-दो लाख आवंटित की गई है। द्वितीय चरण में संबंधन प्राप्त महाविद्यालय को भी राशि देने पर विचार की जाएगी। उन्होंने कहा कि खेल आवश्यक है खेल से सभी लोगों की रुचि होनी चाहिए, क्योंकि खेल से शरीर स्वस्थ होता है और बुद्धि भी खुलती है। उप सचिव डा शंकर मिश्रा ने कहा कि विश्वविद्यालय खेल की दिशा में बहुत तत्पर है। हम आगे बढ़ रहे हैं, हमें सफलता भी मिल रही है। कोशिश है कि हम विश्वविद्यालय को अंतर विश्वविद्यालय के विजेता में लावें।

संबंधन प्राप्त महाविद्यालय कहीं से भी नहीं रहेगा पीछे

यूभीके कॉलेज करामा आलमनगर के प्राचार्य डा माधवेंद्र झा ने कहा कि हम विश्वविद्यालय को विश्वास दिलाना चाहते हैं कि संबंधन प्राप्त महाविद्यालय कहीं से भी पीछे नहीं रहेगा। पीआरओ डा सुधांशु शेखर ने कहा सच मायने में कम दिनों में विश्वविद्यालय ने खेल में बड़ी उपलब्धि हासिल किया है।  मधेपुरा कॉलेज के प्राचार्य डा अशोक कुमार ने महाविद्यालय परिवार की ओर से विजेता और उपविजेता टीम को प्रति कुलपति के द्वारा मोमेंटो एवं मैडल देकर सम्मानित कराया। वहीं विश्वविद्यालय की पूरी टीम ने सभी खिलाड़ियों को मेडल पहनाकर सम्मानित किया।

 प्रतियोगिता से प्रति कुलपति अभिभूत व प्रसन्न होकर विजेता टीम के बेहतरीन खिलाड़ी रणवीर राठौर को पांच सौ रुपया नगद देकर प्रोत्साहित करने का कार्य किया। वही युभीके कॉलेज के प्राचार्य डा माधवेंद्र झा ने महिला टीम की बेहतरीन खिलाड़ी मोनिका को पांच सौ रुपया नगद देकर  प्रोत्साहित करते हुए आशीर्वाद दिया। प्राचार्य डा अशोक कुमार राष्ट्रीय स्तर की धाविका सुमन भारती ललिता को पोशाक के लिए 15 सौ रुपया का चेक प्रति कुलपति एवं विश्वविद्यालय की पूरी टीम के द्वारा देकर हौसला की अफजाई किया। प्राचार्य डा अशोक कुमार ने जिला कबड्डी संघ जो प्रतियोगिता के दौरान निर्णायक मंडली के रूप में कार्य किया, उन्हें प्रति कुलपति के हाथों सम्मानित करते हुए आशीर्वाद दिया।

बीएनएमयू के दो तिहाई महाविद्यालय ने खेल में लिया भाग

प्राचार्य ने कहा कि जिला कबड्डी संघ के सचिव अरुण कुमार मधेपुरा खेल जगत का एक प्रतीक व आवाज है। प्रति कुलपति, कुलसचिव, सह सचिव, पीआरओ को महाविद्यालय की ओर से प्रधानाचार्य ने प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। महाविद्यालय परिवार द्वारा प्रतियोगिता में भाग लेने वाले पुरुष वर्ग से 16 महाविद्यालय के कोच टीम मैनेजर तथा महिला वर्ग से चार महाविद्यालय के कोच व टीम मैनेजर को सम्मानित करते हुए बहुत-बहुत बधाई व धन्यवाद दिया। साथ ही प्रधानाचार्य ने कहा इन सबो के प्रयास से आज बीएनएमयू के दो तिहाई महाविद्यालय खेल में भाग ले सका।

अंत में प्रधानाचार्य ने महाविद्यालय परिषद के सचिव रत्नाकर भारती, पीटीआई शंभू कुमार, डा भगवान कुमार मिश्रा, प्रो चंदेश्वरी यादव, प्रो सचिदानंद सचिव, विवेकानंद कुमार, प्रो अंकेश कुमार, प्रो बिजेंद्र मेहता, डा ब्रजेश कुमार मंडल, गौतम कुमार, डा बैजवंश कुमार, प्रो संजीव कुमार, रंजू को भी प्रति कुलपति एवं विश्वविद्यालय की पूरी टीम के हाथों सम्मानित करते हुए कहा कि इस टीम को जितना भी धन्यवाद दें वह कम है, क्योंकि आज महीनों के परिश्रम से यह प्रतियोगिता संपन्न व शानदार सफल हो सका। साथ ही महाविद्यालय के सहयोगी अमल किशोर, तरुण, गोविंद, रंजीत, जोगी, मुरली, बंसी मनोज, चित्रनारायण, आनंद आदि को भी महाविद्यालय परिवार की ओर से धन्यवाद ज्ञापित की गई।

Check Also

सुपौल : करंट लगने से छात्र की मौत

🔊 Listen to this छातापुर से रियाज खान की रिपोर्ट: छातापुर/सुपौल/बिहार : छातापुर प्रखंड अंतर्गत …