सावधान ! कालाबाजारी से बाज नहीं आए तो जेल होगा ठिकाना

अमित कुमार अंशु
उप संपादक

मधेपुरा/बिहार : कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए लॉक डाउन होने के बाद जिला मुख्यालय समेत आस पास सब्जी बाजार में सब्जियों के भावों में तेजी आ गई है। बाहर से सब्जी एवं फल के वाहन कम आने का भी असर है। आम दिनों में बिकने वाले सभी सब्जियों के दामों में 10  से 15 रुपए तक महंगी हो गई है।

यह वृद्धि बुधवार को भी जारी है। सब्जी विक्रेताओं का माने तो आने वाले दिनों में यही स्थिति रही तो सब्जियों के दामों में और बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि बाहर से सब्जी का आवागमन थम सा गया है।

देखें वीडियो :

हरी सब्जी के दामों में रही बढ़ोतरी : आम दिनों में आलू 12 से 15 किलो बेचा जा रहा था, कोरोना वायरस और लॉक डाउन हो जाने से बुधवार को 25 से 30 रुपए किलो तक आलू बेचा गया। हरी सब्जियां बाजार में कम दिखी, जो हरी सब्जी उपलब्ध है, उसके दामों में बढ़ोतरी रही। सब्जी बाजार में कोबी 20 रुपए किलो, आलू 30 रुपए किलो, प्याज 40 रुपए किलो, कद्दू 50 रुपए पीस, परवल 160 रुपए किलो, धनियां पत्ता 200 रुपए किलो, बिट 50 रुपए किलो, कटहल 100 रुपए किलो, खीरा 40 रुपए किलो, मूली 30 रुपए किलो, करेला 80 रुपए किलो, भिंडी 80 रुपए किलो, बेगन 40 रुपए किलो, भट्टा 50 रुपए किलो, टमाटर 40 रुपए किलो, बंधा 25 रुपए किलो, साग 30 रुपए किलो, अदरख 200 रुपए किलो, लहसुन 160 रुपए किलो, मिर्ची 160 रुपए किलो, शिमला 160 रुपए किलो, गाजर 80 रुपए किलो, बींस 60 रुपए किलो नींबू 5 रुपए पीस बेचा गया।

कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों पर होगी सख्त कार्रवाई: किराना सामान सब्जी के दामों में वृद्धि को लेकर जिले के लोगों के लिए परेशानी का सबब बन चुका था। लोगों का कहना था कि जहां एक तरफ देश इस आपदा से लड़ रहा है। वहीं इस बीच में भी कई लोग जेब को भरने में लगे हुए हैं। लोगों ने कहा कि अगर ऐसी स्थिति रही तो लोगों के बीच भुखमरी की स्थिति आ जाएगी। सामानों के बढ़ते दामों को लेकर कई लोगों ने इसकी सूचना सदर एसडीएम वृंदा लाल एवं सदर एसडीपीओ वसी अहमद को दी।

सूचना मिलते ही अधिकारियों ने सब्जियों के थोक विक्रेता खुदरा विक्रेता, किराना सामानों की थोक विक्रेता एवं खुदरा विक्रेता की दुकानों पर छापामारी कर उन्हें उचित मूल्यों में सामान बेचने की सख्त हिदायत दी। सदर एसडीएम वृंदा लाल ने कहा कि किसी भी तरह की कालाबाजारी या जमाखोरी करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी, आवश्यक वस्तुओं का गलत तरीके से मूल्य वृद्धि करना अपराध है, ऐसे तत्वों को चिन्हित कर जेल भेजा जाएगा। जनता से भी आग्रह है कि अनावश्यक अफरा-तफरी ना करें, सरकार द्वारा यह तय कर दिया गया है कि किराना दुकान दवा दुकान समेत गैस दूध आदि की आपूर्ति में कोई बाधा नहीं होगी।

खाद्य सामग्री और दवा दुकानों में लगी है भीड़ :  बुधवार को लॉक डाउन को लेकर किराना दुकान और दवा दुकानों को छोड़कर शेष सभी दुकानें बंद रही किराना दुकान और दवा दुकानों में लगातार भीड़ है। शहर के दवा दुकानों में आम दिनों की अपेक्षा ज्यादा भीड़-भाड़ दिखा. किराना दुकानों में लोग रोजमर्रा के जरूरतों के समानों को 14 अप्रेल तक लॉक डाउन के ध्यान में खरीददारी करते देखे गए।

एसडीएम, एसडीपीओ ने बाजार क्षेत्र में किया भ्रमण :  सदर एसडीएम वृन्दालाल और एसडीपीओ वसी अहमद पुलिस बलों के साथ बाजार क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान लगातार माइकिंग कर बताया गया. कोरोना वायरस रोकथाम के कारण केंद्र सरकार द्वारा 14 अप्रेल तक लॉक डाउन किया गया, साथ ही धारा 144 लागू भी कर दिया गया है। इस कारण पांच से अधिक व्यक्ति एक जगह पर नहीं रहें, अनावश्यक रूप से बाजार में नहीं घुमें, सभी लोग अपने-अपने घरों में रहे। धारा 144 को उल्लंघन करने वाले के विरूद्ध कार्रवाई भी की जाएगी।

 सदर एसडीपीओ वसी अहमद ने कहा कि लॉक डाउन का असर पूरे जिले में दिखा जा रहा है। मधेपुरा की जनता जागरूक है। जिला मुख्यालय से लेकर गांव-गांव तक लोग लॉक डॉन का समर्थन कर रहे हैं, लोग स्वतः घरों में रहना शुरू कर दिया है।  लोक सिर्फ आवश्यक गाड़ियों के लिए घरों से निकल रहे हैं। तीन दिन पहले जो स्थिति थी उसमें भारी बदलाव आया है, जिले की जनता इस महामारी को खत्म करने में जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन का साथ दे रही है, साथ ही सभी चौक चौराहों पर दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल मुस्तैद है।

Check Also

मधेपुरा : अफवाहों के लेकर पत्रकार और जिलवासियों से डीएम ने की अपील, कहा : इस विकट परिस्थिति का सब एक साथ मिलकर करें सामना  

🔊 Listen to this मधेपुरा/बिहार : जिला पदाधिकारी नवदीप शुक्ला ने जिले वासियों से अपील …