मधेपुरा के माया विद्या निकेतन को मिली CBSE नई दिल्ली से मान्यता

Photo : www.therepublicantimes.coPhoto : www.therepublicantimes.co
728x90
Spread the news

मधेपुरा/बिहार : जिले का लोकप्रिय स्कूल माया विद्या निकेतन को सीबीएसई (CBSE) नई दिल्ली से मान्यता मिल गई है. अब इस विद्यालय में 12वीं तक की पढ़ाई कराई जायेगी. विद्यालय प्रबंधन एवं शिक्षकों की कठोर मेहनत के कारण इस विद्यालय की गणना जिले के टॉप स्कूलों में होती है. विद्यालय को CBSE से मान्यता मिलने पर विद्यालय की निदेशिका, शिक्षकों, छात्र-छात्राओं, कर्मियों एवं अभिभावकों ने प्रसन्नता जाहिर की है. विद्यालय परिसर में शिक्षकों एवं कर्मियों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी व्यक्त किया.

जिला मुख्यालय के डाक बांग्ला रोड में महज 21 बच्चों से माया विद्या निकेतन के नाम से इस शिक्षण संस्थान की शुरुआत करने वाली स्कूल की निदेशिका चंद्रिका यादव ने सीबीएसई से मान्यता मिलने पर अपनी खुशी का इजहार करते हुए कहा कि यह सभी शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं के कड़ी मेहनत तथा अभिभावकों एवं समाज के बुद्धिजीवियों के साथ का प्रतिफल है, ये सभी बधाई के पात्र हैं. उन्होंने कहा कि विद्यालयों को 12वीं तक सीबीएसई से मान्यता मिलने के बाद पिछड़े इलाके के छात्र-छात्राओं के लिए काफी मददगार साबित होगा. साथ ही विद्यालय प्रबंधन का यह प्रयास रहेगा कि बच्चे यहां से शिक्षित होकर विद्यालय एवं जिले का नाम रोशन करें. विद्यालय में पुस्तकालय एवं प्रयोगशाला और कंप्यूटर क्लास की सुविधा उपलब्ध है. विद्यालय का खेल का मैदान भी आकर्षक है. उन्होंने कहा कि इस स्कूल से शिक्षा ग्रहण कर कई बच्चों ने शिक्षा, सपोर्ट, आर्ट एंड क्राफ्ट में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाकर स्कूल के साथ-साथ जिला का नाम रौशन किया है.  

उन्होंने बताया कि हर विषय के माहिर शिक्षकों द्वारा बच्चों का मोटिवेशन भी कराया जाता है. यहां शिक्षा के साथ-साथ संस्कार के गुर सिखाये जाते हैं. इस विद्यालय में गुरु-शिष्य परंपरा पर आधारित शिक्षा की व्यवस्था है. विद्यालय के बच्चे कला, खेल, विज्ञान सहित अन्य उत्कृष्ट कार्यों में सफलता का परचम लहराकर विद्यालय का मान बढ़ाते रहे हैं. विद्यालय प्रबंधन द्वारा सामाजिक क्षेत्र में भी खास रूचि दिखाई जाती है. उन्होंने कहा कि अभी कंप्यूटर शिक्षा पर जोर दिया गया है, जिसमें बच्चों को कोडिंग सिस्टम की जानकारी होनी चाहिये. जिसके लिए विद्यालय में शिक्षक उपलब्ध है. उन्होंने कहा कि कोडिंग और फिजिकल एजुकेशन को आगे और भी बेहतर रूप देने का प्रयास किया जा रहा है.

 चंद्रिका यादव ने बताया कि माया विद्या निकेतन को शिखर तक पहुंचाने में मीरा कुमारी, मदन कुमार, धर्मेंद्र कुमार, कृष्णा शरण, सुरेश शर्मा, जयशंकर कुमार, कुंदन कुमार, प्रवाल झा, मंजूश्री घोष, नूतन कुमारी, कविता श्रीवास्तव, राखी जमवाल, मयूरी, रुचि रानी, उत्तम कुमार दास, दिलीप कुमार, गौरी शंकर, चंद्रशेखर झा, मनीष गुप्ता, शंभू यादव, संजय, विवेक, आलोक, हिमांशु, खुशबू समेत सभी शिक्षक, छात्र-छात्राओं, कर्मियों एवं अभिभावकों का अमूल्य योगदान रहा है.

मो० नियाज अहमद
ब्यूरो, मधेपुरा

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें