नालंदा : इंटर परीक्षा के पहले दिन 26 छात्र हुए निष्कासित,444 ने परीक्षा में नहीं लिया भाग

www.therepublicantimes.co
फ़ोटो : परीक्षा केंद्रों का जायजा लेते जिलाधिकारी
728x90
Spread the news

नालंदा/बिहार : जिले के 39 केंद्रों पर सोमवार से इंटर की परीक्षा शुरू हुई। इस दौरान कुछ केंद्रों को छोड़ बाकी अन्य केंद्रों पर शांतिपूर्ण परीक्षा हुई। परीक्षा के पहले दिन 26 छात्र-छात्राएं नकल के आरोप में निष्कासित किये गए। उसमें सबसे अधिक हिलसा एमवी कॉलेज में 9 को बाहर का रास्ता दिखाया गया। जबकि, निष्कासन के मामले में दूसरे नम्बर पर सोगरा कॉलेज रहा। यहां 7 छात्रों को नकल के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इस दौरान दोनों पालियों को मिलाकर 444 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा में  भाग नहीं लिया।

डीएम योगेंद्र सिंह ने बताया कि सभी परीक्षार्थी पहली पाली में ही निष्कासित किये गए हैं। इसमें किसान कॉलेज, नालंदा विद्या मंदिर पतासंग व राजगीर के विवेकानंद मध्य विद्यालय से एक-एक को नकल के आरोप में पकड़ा गया। जबकि, सोगरा कॉलेज से सात के अलावा हिलसा के मई हाई स्कूल से 4, पटेल कॉलेज हिलसा से 3 और  एमबी कॉलेज हिलसा से 4 छात्राओं को निष्कासित किया गया। जबकि पहली पाली में 39 केंद्रों में से केवल राजगीर के विवेकानंद मध्य विद्यायल से एक भी परीक्षार्थी गैरहाजिर नहीं रहे। अन्यथा सभी केंद्रों से 3 से लेकर 21 परीक्षार्थी तक परीक्षा में शामिल नहीं हुए।

advertisement

उन्होंने बताया कि सबसे अधिक जेपी इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से 21 एसपीएम कॉलेज व गुरुकुल विद्यापीठ से 10- 10, आर पी एस से 17 कैंब्रिज व सोगरा कॉलेज से 14-14, नालंदा कॉलेज से 16 पीएमएस कॉलेज से 17 और केएसटी कॉलेज से 11 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा में भाग नहीं लिया। इसके अलावा अन्य केंद्रों से भी परीक्षार्थी गायब रहे। इसी प्रकार दूसरी पाली में 157 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। इसमें सबसे अधिक हिलसा के अरबी स्कूल से 11 तो अन्य केंद्रों में भी परीक्षार्थी शामिल नहीं हुए।

परीक्षा को कदाचार मुक्त माहौल में संपन्न कराने के लिए जिले भर के अधिकारी परीक्षा केंद्रों पर औचक निरीक्षण को पहुंचते रहे। खुद डीएम योगेंद्र सिंह ने करीब आधा दर्जन केंद्रों का जायजा लिया और कदाचार मुक्त परीक्षा संपन्न कराने का आदेश केंद्र अधीक्षकों को दिया।

सभी केंद्रों पर दोनों पालियों में परीक्षा शुरू होने से पहले ही अभ्यर्थियों की भीड़ जमा होनी शुरू हो गयी थी। पहली पाली में करीब 9 बजे से परीक्षार्थियों को केंद्रों में प्रवेश की इजाजत दी जाने लगी थी। इससे पहले मुख्य द्वार पर ही सभी अभ्यर्थियों की वीडियोग्राफी के साथ ही त्रि स्तरीय जांच की गई।

मुर्शीद आलम
नालंदा ब्यूरो
बिहार

Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें