वर्तमान विषम हालात में भगत सिंह के जीवन संघर्ष को अपनाने की जरूरत-राठौर

Spread the news

अमन कुमार
संवाददाता, सदर
मधेपुरा

मधेपुरा/बिहार : शहीदे आजम भगत सिंह की 114 वीं जयंती के अवसर पर वाम छात्र संगठन एआईएसएफ की बीएनएमयू इकाई द्वारा ग्रामीण स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर उनकी तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया गया।

संगठन के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य सह बीएनएमयू प्रभारी हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने कहा कि भगत सिंह भारतीय इतिहास के वो सितारे रहे जिसकी रौशनी से आज भी इतिहास जगमगाता है। बाल्यकाल से आजादी के लिए संघर्ष, अपने विचारों पर ताउम्र अडिग रहने की अदा आज भी युवाओं को दीवाना बनाती है। भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सर्वाधिक युवा भगत को अपना आदर्श मानते हैं। सत्ता को हिलाने के लिए असेम्बली में बम फेंकना, युवाओं को जागृत करने के लिए फांसी के फंदे पर झूल जाना, जैसे काम सिर्फ भगत ही कर सकते थे। अपने जिंदगी के सभी सुख सुविधाओं की  कुर्बानी कर  भारत मां की सेवा में सबकुछ समर्पित करने वाले भगत को पीढ़ी दर पीढ़ी अपना आदर्श मानती रहेगी  ।

छात्र नेता राठौर ने इस अवसर पर उपस्थित बच्चों से कहा कि अपनी जिंदगी में एक बार भगत सिंह के जीवन संघर्ष और राष्ट्र प्रेम को जरूर पढ़ें। उन्होंने कहा कि वर्तमान राष्ट्र के विषम हालात में भगत सिंह का जीवन संघर्ष अपनाने की जरूरत है। इस अवसर पर अपनी बात रखते हुए शिक्षक शिव कुमार सिंह ने कहा कि भगत सिंह स्वतंत्रता आंदोलन में अपनी सर्वस्व समर्पण से परिपूर्ण कुर्बानी के लिए सदैव सलाम किए जाएंगे, उन्होंने भारत की भूमि का मान बढ़ाया। छात्र घनश्याम, मौसम, प्रियंका, काजल, अजय ने जयंती के अवसर पर भगत सिंह को याद करते है उनके बताए मार्ग पर चलने की बात कही।

इस अवसर पर विजय, रौशन, अंशु, रूपेश, पिंकी, प्रीति, लक्ष्मी, सिम्पल, राजलक्ष्मी, निषाद, ओम, सत्यमं, अंकित, पुनीता, नेहा सहित दर्जनों की संख्या में बच्चे मौजूद रहे।


Spread the news

कोई जवाब दें

कृपया अपना जवाब दीजिये।
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें