जानिए सारण प्रमंडल के किस विधानसभा क्षेत्र पर कौन कर रहा दावेदारी

अनूप ना. सिंह
स्थानीय संपादक

पटना/बिहार : बिहार विधानसभा चुनाव की आहट के साथ ही सारण प्रमंडल में टिकट के दावेदारों में भागदौड़ बढ़ गई है। सारण लोकसभा के अंतर्गत आने वाले  सोनपुर विधानसभा क्षेत्र से राजद के रामानुज राय विधायक है,  इस बार राजद के ही पूर्व दिवंगत विधायक राजकुमार राय के पुत्र राजन कुमार राय यहां से टिकट के प्रबल दावेदार है।

दूसरी तरफ भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक विनय कुमार सिंह के साथ ही साथ वरिष्ठ अधिवक्ता व समाजसेवी ओम कुमार सिंह भी भाजपा के टिकट के प्रबल दावेदार है तथा पूरे दमखम के साथ क्षेत्र में सक्रिय  है। जदयू के तरफ से भी कई नए चेहरे  क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं। गरखा सुरक्षित क्षेत्र में राजद के मुनेश्वर चौधरी के सामने भाजपा के ज्ञानचंद माझी हैं, हालांकि राजद और भाजपा से भी कई नए चेहरे क्षेत्र में अपनी दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं। यहां से राजद के मुनेश्वर चौधरी संप्रति विधायक है, परसा विधानसभा क्षेत्र से राजद के चंद्रिका राय विधायक है, उन्होंने सारण लोकसभा क्षेत्र से राजद उम्मीदवार के तौर पर इस बार चुनाव भी लड़ा था लालू परिवार से चल रही कानूनी लड़ाई के कारण वे इन दिनों पार्टी लाइन से अलग हटकर बयान दे रहे। माना जा रहा है कि जदयू में शामिल होंगे।

परसा से जदयू के पूर्व विधायक छोटेलाल राय टिकट के प्रबल दावेदार हैं जबकि चंद्रिका राय की भतीजी डा करिश्मा राय भी अब राजद के टिकट के दावेदारों में शामिल हो गई है। अमनौर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के शत्रुघ्न तिवारी उर्फ चोकर बाबा विधायक है, पर यहां से जदयू के टिकट पर पूर्व विधायक कृष्ण कुमार सिंह उर्फ मंटू सिंह को उतारे जाने की चर्चा है। यह सीट जदयू के खाते का है उनके मुकाबले राजद के जिला अध्यक्ष सुनील कुमार राय भी जोर लगाए हुए हैं। ऐसे में चोकर बाबा को किसी दूसरे सीट पर शिफ्ट किया जा सकता है।

 कई सारे नए चेहरे भी क्षेत्र में नजर आ रहे हैं। छपरा सदर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के डॉ सी एन गुप्ता विधायक है, इस बार यहां से भाजपा उनके उम्र को देखते हुए उम्मीदवार बदलने के मूड में है। भाजपा से कोई सारे उम्मीदवार दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं इनमें महाराजगंज के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल के पुत्र भी शामिल हैं, वहीं राजद की तरफ से पूर्व विधायक रणधीर कुमार सिंह का टिकट पक्का है। मढ़ौरा विधानसभा क्षेत्र से राजद के जितेंद्र कुमार राय विधायक हैं उनका टिकट कंफर्म है, भाजपा के तरफ से पूर्व विधायक लालबाबू राय या चोकर बाबा को उतारा जा सकता है, सारण जिला परिषद के अध्यक्ष मीना अरुण भी चुनावी तैयारी में है जो यहां तुरुप का पत्ता साबित हो सकती हैं।             सारण प्रमंडल के अंतर्गत आने वाले महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र के 6 विधानसभा क्षेत्रों की चर्चा करें तो तरैया में राजद के मुन्द्रिका राय विधायक हैं जिनका टिकट कंफर्म है। हालांकि पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह के भतीजे युवराज सुधीर सिंह की दावेदारी से राजद वोटो में बिखराव के आसार हैं। वहीं भाजपा की तरफ से पूर्व विधायक जनक सिंह का टिकट भी कंफर्म है, लेकिन स्थानीय सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की करीबी जिला परिषद सदस्य प्रियंका सिंह भी टिकट की दौड़ में है। जदयू की तरफ से शैलेंद्र प्रताप सिंह भी क्षेत्र में जोर लगाए हुए हैं। निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर इस क्षेत्र में मुखिया संगम बाबा भी पूरे कोरोना काल में राहत बांटते नजर आ रहे हैं।

 जानकार बताते हैं कि सुधीर सिंह के चुनाव लड़ने से तरैया में बड़ा उलटफेर हो सकता है। बनियापुर विधानसभा क्षेत्र से राजद के केदारनाथ सिंह विधायक हैं उनका टिकट कंफर्म है, वह पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह के छोटे भाई हैं, उनके मुकाबले भाजपा के पूर्व विधायक तारकेश्वर सिंह का भी टिकट कंफर्म है। आम आदमी पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष सुशील कुमार बनियापुर से चुनाव लड़ सकते हैं, हालांकि यहां से भाजपा के टिकट पर निवर्तमान एमएलसी सच्चिदानंद राय और जदयू के टिकट पर वीरेन्द्र ओझा भी दावेदार है। गोरियाकोठी विधानसभा क्षेत्र से राजद के सत्यदेव सिंह विधायक है, उनका टिकट राजद की तरफ से कंफर्म है।

वहीं दूसरी तरफ भाजपा की तरफ से पूर्व विधायक देवेश कांत सिंह का भी टिकट कंफर्म है। पप्पू यादव की पार्टी जाप के तरफ से प्रधान महासचिव प्रेमचंद सिंह भी क्षेत्र में सक्रिय हैं, उनके भी चुनाव लड़ने की चर्चा है। बर्मा ट्रांसपोर्ट के मालिक के भी निर्दलीय चुनाव लड़ने की चर्चा है। महाराजगंज में टिकट के दावेदारों की भीड़ है, यहां से पूर्व सांसद उमाशंकर सिंह के पुत्र जितेंद्र स्वामी व पूर्व विधायक देवरंजन सिंह भाजपा के उम्मीदवार हो सकते हैं, जबकि यहां के निवर्तमान जदयू विधायक भी चुनाव लड़ने के मूड में है। राजद की तरफ से इस बार पूर्व विधायक मानिक चंद्र राय के पुत्र प्रबल दावेदार है। एकमा विधानसभा क्षेत्र से जदयू के धूमल सिंह का टिकट भी कंफर्म है वहीं निवर्तमान विधायक है, राजद के तरफ से दर्जन भर से ज्यादा दावेदार है, पिछली बार भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े मुन्ना सिंह भी दमखम के साथ मैदान में उतरने की तैयारी में है। माझी मे कहानी एक अनार सौ बीमार की है। एनडीए की तरफ से डब्लू सिंह भाजपा के टिकट चाहते हैं जबकि माधवी सिंह जदयू की टिकट की दावेदार हैं।  वहीं लोजपा के केशव सिंह का दावा भी प्रबल है, पूर्व मंत्री गौतम सिंह भी क्षेत्र में सक्रिय हैं और उन्हें जदयू के टिकट का भरोसा है। महागठबंधन के तरफ से यहां से निवर्तमान कांग्रेस विधायक विजय शंकर दुबे का टिकट कंफर्म है।

बात पिछले विधानसभा चुनाव की करें तो एकमा से जदयू के धूमलसिंह ने भाजपा के कामश्वर मुन्ना को 8126 से, मांझी से विजय शंकर दुबे ने लोजपा के केशव सिंह को 8866 से, बनियापुर से राजद के केदारनाथसिंह ने भाजपा के तारकेश्वर सिंह को 12365 से, तरैया से राजद के मुंद्रिकाराय ने भाजपा के जनक सिंह को 7524 से, मढ़ौरा  में राजद के जीतेन्द्रकुमारराय ने भाजपा के लालबाबू राय को 3584 से, अमनौर में भाजपा के चोकरबाबा ने जदयू के मंटू सिंह को 5251 से, परसा में राजद के चन्द्रिकाराय ने लोजपा के छोटेलाल राय को 42335 से, गरखा में राजद के मुनेश्वरचौधरी ने भाजपा के ज्ञानचंद मांझी को 39793 से, सोनपुर में राजद के रामानुजराय ने भाजपा के विनय कुमार सिंह को 36393 से, छपरा से भाजपा के सीएलगुप्ता  ने राजद के रणधीर सिंह को 11379 मतों से मात दी थी।

Check Also

नई शिक्षा नीति : संस्थान में सरकार का हस्तक्षेप ज्यादा होगा और डिग्री का महत्व कम-राठौर

🔊 Listen to this मधेपुरा/बिहार : मानव संसाधन विकास विभाग द्वारा लाई गई बहुप्रतीक्षित नई …